Raksha Bandhan 2019 Special: रक्षाबंधन का त्योहार भाई और बहन दोनों के लिए खास होता है। बहनों को इस दिन का सालभर से बेसब्री से इंतजार रहता है। अपने भाई के मंगल कामना के लिए बहनें तब तक व्रत रहती हैं, जब तक उनकी दाईं कलाई पर अपनी प्यार भरी राखी न बांध दें। राखी हमेशा भाइयों को कर्तव्यबोध का एहसास कराती हैं, बहन की रक्षा उनका धर्म है।

इस दिन को विशेष बनाने के लिए बहनें घर के बाहर रंगोली बनाती हैं, भाई के लिए स्वादिष्ट पकवान और मिठाइयां बनाती हैं। वहीं भाई बहनों को उपहार देते हैं, जिसमें चॉकलेट, आभूषण, मोबाइल फोन, कोई अच्छी सी ड्रेस हो सकती है। बदले में बहनें भी भाइयों को विभिन्न तरह के उपहार भेंट करती हैं।

कैसे मनाएं रक्षाबंधन का त्योहार

रक्षाबंधन के दिन हमें सुबह दैनिक क्रियाओं से निवृत्त होने के बाद स्नान करना चाहिए। फिर नए या फिर साफ कपड़े पहनना चाहिए। इसके बाद घर में एक स्थान पर स्वास्तिक का शुभ चिह्न बनाएं, वहां पर कलश में जल भरकर, आम की पत्तियां रखे दें। इसके बाद सूखे नारियल को कलश पर स्थापति कर दें।

इस स्थान पर दो आसन ऐसे लगाएं कि उस पर बैठते समय भाई का मुंह उत्तर या पूर्व की ओर रहे। फिर भाई-बहन आसन पर बैठ जाएं। कलश के पास गौरी और गणेश के पूजन के पश्चात भाई को कुमकुम या रोली का तिलक तथा अक्षत् लगाएं और सिर पर रूमाल रखें। फिर भाई के दाहिनी कलाई पर राखी बांधें।

राखी बांधने का मुहूर्त

इस बार राखी बांधने का मुहूर्त काफी अच्छा है। बहनें सुबह 6 बजे से लेकर शाम को 5 बजकर 58 मिनट तक राखी बांध सकती हैं। हालांकि दिन में 12:55 तक सौभाग्य योग है, इसमें राखी बांधें तो बहुत अच्छा रहेगा।

राखी बांधने का मंत्र

भाई को राखी बांधते समय आपको नीचे लिखा हुआ मंत्र उच्चारित करना चाहिए। इससे आपके भाई वर्ष भर सुखी रहेंगे।

येन बद्धोबलि राजा दानवेन्द्रो महाबल:।

तेन त्वामनुबध्नामि रक्षे मा चल मा चल।।

मंत्र के साथ राखी बांधाने के बाद भाई को मिठाई खिलाएं। घी का दीपक जलाकर भाई की आरती उतारें और उनकी उन्नति तथा तरक्की की कामना करें।

Raksha Bandhan 2019: रक्षाबंधन और श्रावण पूर्णिमा पर करें ये आसान उपाय, धन-धान्य की नहीं होगी कमी

Raksha Bandhan 2019 History: क्यों मनाते हैं रक्षाबंधन का त्योहार? कथा, महत्व, इतिहास सबकुछ जानें यहां

रक्षा का वचन

बहन के राखी बांधने के बाद भाई को जीवनपर्यंत उसकी रक्षा का वचन देना होता है और ईश्वर से उसकी मंगल कामना की जाती है। बहन बड़ी हैं तो पैर छूकर उनका आशीर्वाद लें। यदि बहन छोटी है तो उसे बड़े भाई का पैर छूकर आशीर्वाद लेना चाहिए।

उपहार

इसके पश्चात भाई बहन को कुछ उपहार देते हैं। उसमें बहन के लिए जरूरत के सामान भी हो सकते हैं। बड़ी बहनें भाइयों को भी उपहार देती हैं।

Posted By: kartikey.tiwari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप