Paush Purnima 2022: हिंदी पंचांग गणना के अनुसार आज पौष माह के पूर्णिमा की तिथि है। इसे पौष पूर्णिमा के नाम से जाना जाता है। आज साल 2022 की पहली पूर्णिमा तिथि है। पूर्णिमा तिथि के दिन मां लक्ष्मी के पूजन और चंद्रमा के पूजन का विधान है। आज के दिन विधि पूर्वक मां लक्ष्मी का पूजन करने से उनके आशीर्वाद की प्राप्ति होती है। पौष पूर्णिमा के दिन से माघ माह का स्नान भी प्रारम्भ हो जाता है जो कि माघ माह की पूर्णिमा तिथि तक करने की परंपरा है। इस काल में गंगा स्नान से समस्त पापों से मुक्ति मिलती है। इसे कल्पवास कहा जाता है। आज पौष पूर्णिमा के दिन मां लक्ष्मी के इन उपायों को अपनाना चाहिए।ऐसा करने से मां लक्ष्मी जरूर प्रसन्न होती हैं और धन-धान्य का आशीर्वाद प्रदान करती हैं।

1-पौष पूर्णिमा के दिन गंगा नदी या अन्य पवित्र नदी में हाथ में कुशा ले कर स्नान करना शुभ होता है। अगर नदि में स्नान करना संभव न हो तो नहाने के पानी में गंगाजल मिलाकर स्नान करना चाहिए, आपकी समस्त पापों का नाश होगा।

2- पौष पूर्णिमा के दिन चावल,खीर या सफेद वस्त्र का दान करना शुभ होता है। सफेद रंग का संबंध चंद्रमा से होता है। इसलिए पूर्णिमा के दिन ऐसा करने से चंद्रमा की स्थिति कुंडली में मजबूत होती है और चंद्र दोष दूर होता है।

3-पौष पूर्णिमा के दिन चंद्रमा को दूध में चीनी और चावल मिलाकर अर्पित करें। ऐसा करते समय "ॐ ऐं क्लीं सोमाय नम:' मंत्र का जाप करें। ऐसा करने से आर्थिक समस्याएं दूर होती है।

4- पौष पूर्णिमा के दिन मां लक्ष्मी का आशीर्वाद पाने के लिए उन्हें पूजन में इत्र, सुगंधित पदार्थ या अगरबत्ती जरूर अर्पित करनी चाहिए। साथ ही उन्हें कमल के या गुलाबी रंग के फूल चढ़ाने चाहिए।

5-पौष पूर्णिमा के दिन मां लक्ष्मी को पूजन में 11 कौड़ियां चढ़ाकर उन पर हल्दी से तिलक करें। अगले दिन सुबह उसे लाल कपड़े में बांधकर अपनी तिजोरी में रख दें। प्रत्येक पूर्णिमा पर इन कौड़ियों की पूजा करके पुनः अगले दिन तिजोरी में रख दें। ऐसा करने से घर में धन का आगमन होता है और मां लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है।

डिसक्लेमर

'इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।'

 

Edited By: Jeetesh Kumar