Paush Purnima 2021: हिन्दू पंचांग के अनुसार यह पौष माह चल रहा है। पौष मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा महत्व बहुत ज्यादा होता है। मान्यता है कि इस दिन दान और स्नान का बेहद विशेष महत्व होता है। साथ ही इस दिन सूर्यदेव को अर्घ्य दिया जाता है। चंद्रमा को पूर्णिमा तिथि बेहद प्रिय है। ऐसा कहा जाता है कि पौष मास की पूर्णिमा को स्नान करने से धार्मिक कर्मकांड की पूर्णता: सार्थक हो जाती है। इस दिन भक्त काशी, प्रयागराज और हरिद्वार में गंगास्नान किया जाता है। यहां स्नान करने का महत्व बहुत ज्यादा होता है। आइए जानते हैं पौष पूर्णिमा तिथि व शुभ मुहूर्त।

पौष पूर्णिमा तिथि व शुभ मुहूर्त:

28 जनवरी 2021, गुरुवार को 01 बजकर 18 मिनट से पूर्णिमा आरम्भ

29 जनवरी 2021, शुक्रवार की रात 12 बजकर 47 मिनट पर पूर्णिमा समाप्त

पौष पूर्णिमा का महत्व:

मान्यता के अनुसार, पौष महीना सूर्यदेव को समर्पित होता है। ऐसे में इस माह अगर कोई सच्चे मन और पूरे विधि-विधान के साथ सूर्यदेव की अराधना करे तो इसे मोक्ष की प्राप्ति होती है। इसके साथ ही इस महीने पड़ने वाली पौष पूर्णिमा के दिन अगर कोई व्यक्ति पवित्र नदियों में स्नान करें और सूर्यदेव को अर्घ्य दे तो उसकी सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। वहीं, पूर्णिमा चंद्रमा की तिथि है। ऐसे में पौष पूर्णिमा के दिन सूर्य और चंद्रमा दोनों ही की अराधना की जानी चाहिुए। ऐसा करने वाले व्यक्ति की इच्छा पूर्ति होती है और जीवन में आने वाली सभी बाधाएं दूर होती हैं।

डिस्क्लेमर

'इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी। '  

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021