Panchang 17 September 2020: हिन्दी कैलेंडर के अनुसार, आज शुद्ध आश्विन मास की अमावस्या तिथि और गुरुवार दिन है। पितृपक्ष के समय की अमावस्या को सर्व पितृ अमावस्या कहा जाता है। आज पितरों का विसर्जन होता है, इसलिए इसे पितृ विसर्जन अमावस्या, पितृ मोक्ष अमावस्या या महालया अमावस्या भी कहते हैं।​ आज पितरों के विसर्जन के साथ ही पितृपक्ष का समापन हो जाएगा। आज गुरुवार का दिन है तो आप को भगवान विष्णु और साईं बाबा की आराधना करनी चाहिए। आज के पंचांग में शुभ मुहूर्त, राहुकाल, दिशाशूल के अलावा सूर्योदय, सूर्यास्त, चंद्रोदय, चंद्रास्त आदि के बारे में भी जानकारी दी जा रही है।

आज का पंचांग

दिन: गुरुवार, शुद्ध आश्विन मास, कृष्ण पक्ष, अमावस्या तिथि।

आज का दिशाशूल: दक्षिण।

आज का राहुकाल: दोपहर 01:30 बजे से 03:00 बजे तक।

आज का पर्व एवं त्योहार: पितृ विसर्जन अमावस्या।

श्राद्ध: अज्ञात व्यक्तियों का श्राद्ध।

विशेष: शुद्ध आश्विन कृष्ण पक्ष समाप्त।

विक्रम संवत 2077 शके 1942 दक्षिणायन, उत्तरगोल, शरद ऋतु शुद्ध आश्विन मास कृष्णपक्ष की अमावस्या 16 घंटे 31 मिनट तक, तत्पश्चात् प्रतिपदा पूर्वाफाल्गुनी नक्षत्र 09 घंटे 49 मिनट तक, तत्पश्चात् उत्तराफाल्गुनी नक्षत्र शुभ योग 23 घंटे 52 मिनट तक, तत्पश्चात् शुक्ल योग सिंह में चंद्रमा 15 घंटे 07 मिनट तक तत्पश्चात् कन्या में।

आज का शुभ समय

अभिजित मुहूर्त: दिन में 11 बजकर 56 मिनट से दोपहर 12 बजकर 45 मिनट तक।

अमृत काल: दोपहर 12 बजकर 09 मिनट से दोपहर 01 बजकर 33 मिनट तक।

विजय मुहूर्त: दोपहर 02 बजकर 23 मिनट से दोपहर 03 बजकर 12 मिनट तक।

सूर्योदय और सूर्यास्त 

आज पितृ विसर्जन अमावस्या के दिन सूर्योदय सुबह 06 बजकर 11 मिनट पर हुआ है और सूर्यास्त शाम को 06 बजकर 29 मिनट पर होगा।

चंद्रोदय और चंद्रास्त 

आ​ज अमावस्या श्राद्ध के दिन चंद्रोदय सुबह 06 बजकर 18 मिनट पर हुआ है। चंद्र का अस्त शाम को 07 बजकर 08 मिनट पर होगा।

आज शुद्ध आश्विन अमावस्या तिथि है। आज के दिन अज्ञात लोगों का श्राद्ध किया जाता है। आज आप कोई नया कार्य करना चाहते हैं तो शुभ मुहूर्त का ध्यान रखें।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस