Move to Jagran APP

Lord Shiva: इस वजह से भगवान शंकर ने किया था विषपान, जानें इसके पीछे की पौराणिक कथा

शास्त्रों में भगवान शिव की पूजा का विधान है। भगवान शिव की पूजा के लिए किसी तिथि व समय की आवश्यकता नहीं होती है। ऐसी मान्यता है कि जो लोग भगवान शंकर की पूजा करते हैं उन्हें सौभाग्य की प्राप्ति होती है। इसके साथ ही जीवन में शुभता आती है। ऐसे में नीलकंठ की पूजा सच्ची श्रद्धा के साथ करें।

By Vaishnavi Dwivedi Edited By: Vaishnavi Dwivedi Fri, 21 Jun 2024 04:08 PM (IST)
Lord Shiva: इस वजह से भगवान शंकर ने किया था विषपान, जानें इसके पीछे की पौराणिक कथा
Lord Shiva: गले में शिव जी ने क्यों धारण किया विष?

धर्म डेस्क, नई दिल्ली। हिंदू धर्म में भगवान शिव की पूजा का खास महत्व है। उन्हें देवों के देव महादेव, भोलेनाथ, शंकर, महेश, रुद्र और नीलकंठ आदि नामों से भी जाना जाता है। कई बार भक्तों के मन में यह सवाल आता है कि आखिर भोलेनाथ (Lord Shiva) को नीलकंठ क्यों कहा जाता है? हालांकि इसके पीछे का कारण काफी लोग जानते भी हैं।

यह भी पढ़ें: Laddu Gopal Rules: गर्मियों में इस तरह रखें अपने लड्डू गोपाल का ध्यान, घर-परिवार पर बनी रहेगी कृपा

भगवान शिव ने क्यों किया था विषपान?

वेदों और ग्रंथों के अनुसार, एक बार देवताओं और असुरों के बीच अमृत प्राप्ति के लिए समुद्र मंथन हुआ था। इस मंथन के दौरान क्षीरसागर से कई दिव्य चीजें प्रकट हुईं, जिसे देवताओं और दानवों ने आपस में बराबर-बराबर बांट लिया। वहीं, इन चमत्कारी और बहुमूल्य वस्तुओं के साथ समुद्र मंथन से हलाहल विष भी निकला, जिसके प्रभाव से पूरे संसार में अंधेरा छा गया। इस विष के कहर को न तो देवताओं में सहने की क्षमता थी न ही असुरों में।

तब सभी न देवों के देव महादेव से मदद मांगी। इसके पश्चात उन्होंने संपूर्ण विष का पान स्वयं ही कर लिया। यह विष उन्होंने अपने गले में धारण किया। इस कारण उनका गला नीला पड़ गया और तभी से उन्हें नीलकंठ कहा जाने लगा।

गले में शिव जी ने क्यों धारण किया विष?

कुछ पौराणिक कथाओं के अनुसार, जब शिव जी विषपान कर रहे थे, उस दौरान देवी पार्वती ने उनका गला दबाए रखा था, ताकि विष गले की नीचे न जा सके। इसी वजह से उन्हें नीलकंठ के नाम से जाना जाता है, जिसका अर्थ है - नीले गले वाला।

यह भी पढ़ें: Jyeshtha Purnima 2024: ज्येष्ठ पूर्णिमा के दिन अवश्य करें चंद्र देव की पूजा, मिलेगा सुख और शांति का आशीर्वाद

अस्वीकरण: ''इस लेख में बताए गए उपाय/लाभ/सलाह और कथन केवल सामान्य सूचना के लिए हैं। दैनिक जागरण तथा जागरण न्यू मीडिया यहां इस लेख फीचर में लिखी गई बातों का समर्थन नहीं करता है। इस लेख में निहित जानकारी विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों/दंतकथाओं से संग्रहित की गई हैं। पाठकों से अनुरोध है कि लेख को अंतिम सत्य अथवा दावा न मानें एवं अपने विवेक का उपयोग करें। दैनिक जागरण तथा जागरण न्यू मीडिया अंधविश्वास के खिलाफ है''।