Mundan Muhurat 2021: हिन्दू धर्म में 16 संस्कार होते हैं। इनमें से चूड़ाकरण जिसे मुंडन भी कहा जाता है, अष्टम संस्कार है। इस संस्कार को अन्नप्राशन संस्कार करने के बाद किया जाता है। इसे बच्चे के जन्म के पहले वर्ष या तीसरे वर्ष पर कराना चाहिए। हिंदू धर्म में मुंडन संस्कार का महत्व काफी ज्यादा है। जब एक शिशु अपनी मां के गर्भ से बाहर आता है तो उसके बाल अशुद्ध कहे भी जाते हैं और होते भी हैं। ऐसे में बच्चे के बालों का मुंडन कराना होता है। इससे बच्चे के बालों की शुद्धि होती है। मुंडन संस्कार के दौरान बच्चे का सिर गंजा किया जाता है। इस दौरान बच्चे के सिर पर हल्दी लगाई जाती है। कई जगहों पर बच्चों को उनके परिवार के कुल देवता के मंदिर में ले जाया जाता है।

इस वर्ष अगर आप अपने बच्चे का मुंडन कराने का विचार कर रहे हैं तो यहां हम आपको वर्ष 2021 के मुंडन मुहूर्थों की जानकारी दे रहे हैं। आइए जानते हैं वर्ष 2021 के मुंडन मुहूर्त

ये हैं मुंडन के शुभ मुहूर्त:

22 फरवरी 2021 सोमवार 06:53 बजे से 10:58 बजे तक

24 फरवरी 2021 बुधवार 18:07 बजे से 3:51 बजे तक

25 फरवरी 2021 गुरुवार 06:50 बजे से

03 मार्च 2021 बुधवार 06:44 बजे से

10 मार्च, 2021 बुधवार 14:42 बजे से

11 मार्च, 2021 गुरुवार 06:36 बजे से 14:41 बजे तक

24 मार्च, 2021 बुधवार 06:21 बजे से 23:13 बजे तक

29 मार्च, 2021 सोमवार 20:56 बजे से

07 अप्रैल, 2021 बुधवार 06:05 बजे से

19 अप्रैल, 2021 सोमवार 05:52 बजे से

26 अप्रैल, 2021 सोमवार 12:46 बजे से

29 अप्रैल, 2021 गुरुवार 14:30 बजे से 22:12 बजे तक

03 मई, 2021 सोमवार 08:22 बजे से 13:41 बजे तक

05 मई, 2021 बुधवार 13:24 बजे तक

06 मई, 2021 गुरुवार 05:36 बजे से 10:32 बजे तक

14 मई 2021 शुक्रवार 05:44 बजे से (वैशाख शुक्ल 3, अक्षय तृतीया, मृगशिरा, वृषभस्थ चंद्र)

17 मई, 2021 सोमवार 05:29 बजे से 11:36 बजे तक

24 मई, 2021 सोमवार 05:26 बजे से (वैशाख शुक्ल 13, स्वाति, तुलास्थ चंद्र)

27 मई 2021 गुरुवार 13:04 बजे से 22:29 बजे तक

21 जून 2021 सोमवार 05:23 बजे से 13:33 बजे तक

28 जून, 2021 सोमवार 14:18 बजे तक 

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप