सामान्य फल- व्यवसाय के संबंध के लिए नया निर्णय लेना आवश्यक होगा, विरोधी पक्ष अड़गेबाजी की नीति अपनायेंगे, परन्तु आप अपने संयम के कारण सफल होंगे। आगन्तुकों के स्वागत-सत्कार में रूचि रहेगी, हाथ-पैर में पीड़ा हो सकती है, महत्वपूर्ण तथा उपयोगी साधनों में कमी से अनेक कार्यों में विलम्ब हो सकता है। धन की कमी महसूस होगी, निकटस्थ संबंधियों अथवा परिजनों से अकारण ही विरोध बढ़ेगा, आय-व्यय बराबर रहेगा, धर्म-कर्म से रूचि हटेगी। 

आपकी कार्यशैली- आप अपनी स्थिति से संतुष्ट नहीं होंगे, आयात-निर्यात के व्यापार में असफलता प्राप्त होने की संभावना पर आर्थिक लाभ, मित्रों का समागम, पारिवारिक जीवन में हंसी खुशी का माहौल व्यक्ति विशेष से संबंध बनेंगे। आमतौर पर आप आदर्श मेजबान होते हैं और मिलने जुलने के शौकीन होते हैं। आप घर को अपनी पसंद से जमाने का शौक रखते हैं।

प्रेम रोमांस- आप कई बार चंचल हो सकते हैं। प्रेम संबंध में स्वतन्त्रता पर बंधन आपको रास नहीं आते। आप जल्दबाजी में कोई निर्णय नहीं करते। आपका प्रेम स्थाई रहता है। ऐसा इसलिए होता है कि आपका चन्द्रमा बहुत मजबूत है। आपके लिए विविधता बहुत महत्वपूर्ण होती है और आपके साथ सफल जीवन गुजारने के लिए आपके स्वभाव को समझना होगा। 

बिजनेस और आर्थिक स्थिति- आप बुद्धिमान सावधान और परिश्रमी हैं। आप सक्रिय और कर्मठ हैं और साथ में जुटकर काम करने वाले भी। शिक्षा, कला, धार्मिक क्षेत्र, कानून, न्याय, राजनीति प्रशासन बिजनेस या बैंकिग के क्षेत्रों में आप खासे सफल हो सकते हैं। आप स्वभाव से गंभीर है और विनम्रता आपके प्रधान लक्षणों में से एक है। धन आपके जीवन में थोड़ा देर से आएगा, लेकिन जब आएगा तो छप्पर फाड़कर आएगा। आपमें सेवाभाव काफी है और आपमें कर्तव्य का प्रबल बोध भी रहता है। यदि आप नौकरी में हैं तो सामान्य तौर पर आप अपनी किस्मत की कहानी खुद लिखेंगे। यह समय होगा उम्र के 45 वर्ष पूरे होने के बाद। 

स्वास्थ्य- आप लीवर या हार्ट के रोग से ग्रस्त हो सकते हैं। आपके निराशा के मूड के कारण मानसिक अशान्ति होती है। आपको तनाव से बचना जरूरी है।

आश्चर्यजनक बात- आप अपनी मेहनत का पूरा सिला चाहते हैं। पढ़ना, लिखना आपको पसंद है। स्वभाव से आप गंभीर है और विनम्रता आपके प्रमुख लक्षणों में से एक है। आपका घर सुसज्जित और सुरूचिपूर्ण होना चाहिए। आपको बागवानी करना अच्छा लगता है।

चेतावनी- कई बार आप अपनी निराशा को दूर करने के लिए नशा करने लगते हैं, जबकि आपको नशीले द्रव्यों से दूर रहना चाहिए।

शुभ दिन- मंगलवार आैर शनिवार।

शुभ रंग- लाल आैर नीला। 

-पंडित विजय त्रिपाठी विजय ​ 

Posted By: Molly Seth