वाराणसी। गंगा की अविरलता अक्षुण्ण रखूंगी। 'क्लीन गंगा मिशनÓ नए बांध निर्माण सहित किसी भी योजना को मूर्तरूप देते समय पर्यावरण संरक्षण संग अविरलता का पूरा ख्याल रखा जाएगा। कोई काम ऐसा नहीं होगा, जिससे गंगा की अविरलता बाधित होती हो। यह घोषणा रविवार को केंद्रीय जल संसाधन व गंगा पुनरूद्धार मंत्री सुश्री उमा भारती ने मानमहल वेधशाला परिसर में आयोजित सम्मान समारोह में की।
श्रीकाशी तीर्थ पुरोहित महासभा, ब्राह्मïण सभा युवा मंच व जोशी ब्राहृमण संघ के बैनर तले आयोजित समारोह में उमा ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट 'क्लीन गंगा प्लानÓ व 'नमामि गंगेÓ आगे बढ़ रही है। प्रोजेक्ट से जन-जन को जोडऩे के क्रम में 'गंगा तीरे यात्राÓ निकाली जाएगी। यह यात्रा दो अक्तूबर को अस्सी से वरुणा के मध्य निकलेगी, जिसकी अगुवाई वह स्वयं करेंगी।
सोलर लाइट से जगमग होंगे- इससे पूर्व सर्किट हाऊस में अधिकारियों संग हुई बैठक में नेहरू युवा केंद्र की ओर से मिशन का प्रजेंटेशन किया गया। इस दौरान गंगा किनारे छोटे पंपिंग स्टेशन व पाथ-वे बनाने तथा पौधरोपण अभियान पर विमर्श हुआ। गंगा किनारे स्थित प्रमुख मंदिरों व देवालयों के बाहर महिला-पुरूष प्रसाधन बनाने व सोलर लाइट लगाने का निर्णय लिया गया। वरुणा से अस्सी तक रीवर फ्रंट योजना शीघ्र आकार लेगी।
निषाद समाज को किया आश्वस्त- शिवाला घाट के करीब निषाद समाज के साथ हुई बैठक में उमा भारती ने आश्वस्त किया कि सरकार उनके हितों की रक्षा करेगी। निषाद समाज के लोगों ने कहा कि कछुआ सेंचुरी के नाम पर उत्पीडऩ संग उनके अधिकारों का हनन किया जा रहा है। मानमंदिर पर आयोजित समारोह में ब्राह्मïण समाज की ओर से पं.कन्हैया त्रिपाठी की अगुवाई में सुश्री उमा भारती को बुके व स्मृति चिन्ह भेंटकर सम्मानित किया गया।

Posted By: Preeti jha