Gaja Lakshmi Ashtami 2021: पितर पक्ष की अष्टमी तिथि के दिन माता लक्ष्मी के गज लक्ष्मी रूप के पूजन का विधान है। इस दिन को गज लक्ष्मी अष्टमी के नाम से जाना जाता है। इस दिन मां गज लक्ष्मी का व्रत और पूजन करने का विधान है। इस दिन भाद्रपद माह की अष्टमी तिथि से शुरू हुए महालक्ष्मी के सोलह दिन के व्रतों का समापन होता है। इस दिन विधि पूर्वक मां लक्ष्मी और उनकी सवारी का पूजन करने से धन-धान्य की प्राप्ति होती है और सुख-समृद्धि के द्वार खुल जाते हैं। इस साल गज लक्ष्मी अष्टमी का व्रत 29 सितंबर को रखा जाएगा। आइए जानते हैं इस दिन मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के कुछ विशेष उपयों के बारे में....

1-गज लक्ष्मी अष्टमी के दिन मां लक्ष्मी की सवारी गज यानि हाथी की भी पूजा का विधान है। इस दिन चांदी का हाथी बनवा कर उसका पूजन करके, अपनी पैसों की तिजोरी या गल्ले में रखें। ऐसा करने से धन लाभ होता है, आपकी तिजोरी में धन दिन दूना रात चौगुना बढ़ेगा।

2- गज लक्ष्मी अष्टमी के दिन धन लाभ पाने के लिए मिट्टी के हाथी पर सोने और चांदी के गहने अर्पित करें और ' ऊँ नमो नारायणाय ’ मंत्र का जाप करें। ऐसा करने से मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं और धन लाभ प्रदान करती हैं।

3- लक्ष्मी पूजन के बाद केले के पत्ते पर रख कर दूध-भात या दूध की खीर मां की सवारी हाथी को अर्पित कर, चंद्रमा को भी भोग लगाएं। इसके बाद इस भोग को अगले दिन किसी ब्राह्मण को खिला दें। ऐसा करने से आर्थिक तंगी दूर होती है और धन लाभ के योग बनते हैं।

4- इस दिन पूजन में मां लक्ष्मी की सवारी हाथी को कमल के फूल अर्पित करें, ऐसा करने से धन और यश की प्राप्ति होती है।

5- गज लक्ष्मी अष्टमी के दिन हाथी को केले खिलाने और हाथी की मूर्ति पर वस्त्र चढ़ाने से सभी तरह की आर्थिक समस्याओं का समाधान होता है।

डिसक्लेमर

'इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।'

 

Edited By: Jeetesh Kumar