जम्मू, राज्य ब्यूरो। बाबा अमरनाथ यात्रा के लिए आने वाले श्रद्धालुओं की संख्या तीन लाख के करीब पहुंच गई है। वहीं बालटाल में बादल फटने से आई बाढ़ व मलबे से स्थगित की गई यात्रा को रविवार सुबह सुचारू कर दिया गया।

रविवार शाम चार बजे तक 4732 श्रद्धालुओं ने पवित्र गुफा में शिवलिंग के दर्शन किए। पहलगाम रूट से 2953 और बालटाल से 666 श्रद्धालु सुबह यात्रा के लिए रवाना हुए। बादल फटने से बालटाल में पार्किंग स्थल व अन्य स्थानों पर गिरे मलबे को हटाया जा रहा है। राहत व बचाव कार्य जारी है। मौसम साफ होने पर प्रशासन ने यात्रा को बहाल करते हुए श्रद्धालुओं के जत्थे को रवाना कर दिया। अब यात्रा दोनों रूटों पर सुचारु रूप से चल रही है। यात्रा पर मौसम की मार पडऩे और बादल फटने की घटनाएं होने के बावजूद श्रद्धालुओं में उत्साह बना हुआ है। उधर, यात्रा के लिए जम्मू स्थित आधार शिविर भगवती नगर यात्री निवास से 707 श्रद्धालुओं का जत्था रवाना हुआ। रवाना हुए जत्थे में 541 पुरुष, 113 महिलाएं, 6 बच्चे और 47 साधु शामिल थे जो 47 वाहनों पर सवार होकर यात्रा पर गए। श्रद्धालुओं की संख्या में ही नहीं बल्कि साधुओं की संख्या में भी कमी का सिलसिला कम हो रहा है।

काबिले गौर बात यह है कि पहलगाम, गांदरबल और बालटाल में पिछले दिनों बादल फटने की घटनाएं हुई हैं। बालटाल में सैकड़ों वाहन क्षतिग्रस्त हो गए हैं। मलबे में फंसे वाहनों को निकालने का काम चलाया जा रहा है। यात्री तो देश भर से आ रहे है लेकिन जम्मू से रवाना होने वाले श्रद्धालुओं की संख्या एक हजार से कम रह गई है।

नेपाल के दुहाबी बाजार से दर्शन को पहुंचे 47 श्रद्धालु

जम्मू, जागरण संवाददाता। भले ही कश्मीर में पनपे हालात और प्राकृतिक आपदा जैसी घटनाओं ने श्रद्धालुओं की संख्या में गिरावट लाई हो, मगर जो श्रद्धालु यहां पहुंच रहे हैं उनमें जोश की कोई कमी नहीं है। नेपाल के शहर विराटनगर (जिला सुनसारी) के दुहाबी बाजार से 47 श्रद्धालुओं का दल रविवार को ही जम्मू पहुंचा और आते ही इनका पंजीकरण भी हो गया। उत्साहित श्रद्धालु आज ही यात्रा के लिए आगे बढ़ जाएंगे। जम्मू पहुंचे इन श्रद्धालुओं का कहना है कि चाहे जो भी हो, उनको तो यात्रा पर जाना ही है क्योंकि भोले बाबा ने उनको बुलाया है। इसलिए वहां पहुंच कर ही वे दम लेंगे।

दल के साथ आए प्रहलाद प्रसाद ने कहा कि नेपाल में शिवभक्तों की कोई कमी नहीं है। इसलिए जब-जब अमरनाथ यात्रा आरंभ होती है तो अनेकों लोग यात्रा के लिए तैयार हो जाते हैं। अकेले दुहाबी बाजार से ही चार दर्जन लोग यहां आए हैं। वहीं, अनिल प्रसाद शाह ने बताया कि यह उनकी पहली यात्रा है। बाबा अमरनाथ के स्थान के बारे में काफी कुछ सुना था और आज वहां जाने का अवसर मिला है। हम तो धन्य हो गए। राम नाथ रुनयाल ने कहा कि मौसम के बिगड़े मिजाज के बाद भी उनके हौसले बुलंद हैं। यात्रा कर वे यहां की खूबीयों के बारे में नेपाल की जनता को बताएंगे। उन्होंने कहा कि जम्मू में तो यात्रा के लिए अच्छे प्रबंध दिखे हैं और उम्मीद है कि ऐसी ही व्यवस्था आगे भी मिलेगी। उन्होंने जम्मू-कश्मीर की सरकार से कहा कि सड़क पर तैनात ट्रैफिक पुलिस श्रद्धालुओं के साथ नरमी बरतें ताकि श्रद्धालुओं को किसी तरह की दिक्कत न हो। वहीं, रंजीत हलवाई ने कहा कि पंजीकरण कराने में कोई दिक्कत नहीं हुई। ऐसी ही व्यवस्था आगे भी रहनी चाहिए। उन्होंने कहा क दुहाबी बाजार में शिव के मंदिर हैं और शिवरात्रि वहां धूमधाम से मनाई जाती है। यह पहला अवसर है जब वे बाबा अमरनाथ यात्रा पर आए हैं।

Posted By: Rajesh Niranjan

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप