Don’ts of Maa Lakshmi: हिंदू धर्म में मां लक्ष्मी को धन-वैभव और संपन्नता की देवी कहा जाता है। मान्यता है कि बिना मां लक्ष्मी की कृपा के व्यक्ति को जीवन में किसी प्रकार की सुख-सुविधा की प्राप्ति नहीं होती। लेकिन जिसके ऊपर मां लक्ष्मी मेहरबान हो जाती हैं, उसके पास कभी भी धन-दौलत की कोई कमी नहीं रहती है। वहीं जिस व्यक्ति से लक्ष्मी रूठ जाती हैं तो धनवान को भी कंगाल बनते समय नहीं लगता है। शास्त्रों में कुछ ऐसे कार्यों के बारे में बताया गया है जिसे करने से धन की देवी लक्ष्मी घर छोड़कर चली जाती हैं। तो आइए जानते हैं उन कार्यों के बारें में जोकि आपको भूलकर भी नहीं करने चाहिए।

1-मां लक्ष्मी का वास ऐसे घर में होता है, जो साफ-स्वच्छ हो।जिन घरों में नियमित तौर पर साफ-सफाई नहीं होती, घर में जाले लगे रहते हैं। मां लक्ष्मी उस घर से रूठ कर चली जाती हैं।

2-शास्त्रों के अनुसार कहा जाता है कि रसोई घर में लक्ष्मी का वास होता है। ऐसे में रसोई गैस पर गंदे या जूठे बर्तन नहीं रखने चाहिए। किचन में चूल्हे को हमेशा साफ-सुथरा रखना चाहिए। शास्त्रों के मुताबिक चूल्हे पर गंदे या जूठे बर्तन छोड़ने से घर में दरिद्रता का वास होता है।

3-इसके साथ ही सूर्यास्त होने के समय पर घर में झाड़ू-पोछा नहीं लगाना चाहिए। इस समय घर में झाड़ू लगाने से जीवन पर दुर्भाग्य का साया मंडराने लगता है। साथ ही मां लक्ष्मी नाराज होकर घर से चली जाती हैं।

4- पूजा करते समय चंदन एक हाथ से कभी नहीं घिसना चाहिए। क्योंकि ऐसा करने से व्यक्ति को लक्ष्मी नारायण दरिद्र बना देते हैं, जिससे की व्यक्ति के पास कभी धन नहीं टिक पाता है। इसलिए दोनों हाथों से चंदन घिसने के बाद किसी बर्तन में रखें, इसके बाद ही बाद ही भगवान को लगाएं।

5- शाम के समय घर में अंधेरा नहीं रहने देना चाहिए, ऐसे घर में मां लक्ष्मी नहीं रूकती हैं। सूर्यास्त के बाद घर में रोशनी जरूर करें, संभव हो सके तो पूजा घर में या तुलसी जी के समीप दिया जलाना चाहिए। मां लक्ष्मी जरूर प्रसन्न होती हैं।

डिसक्लेमर

'इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।'

 

Edited By: Jeetesh Kumar