जम्मू, जागरण संवाददाता। वार्षिक अमरनाथ यात्रा के दौरान श्रद्धालुओं की सुविधा उपलब्ध करवाने के लिए पुख्ता बंदोबस्त किए गए हैं। लखनपुर से यात्रा के दोनों आधार शिविरों पहलगाम तथा बालटाल तक स्वास्थ्य जांच शिविरों के अलावा श्रद्धालुओं के ठहरने के लिए उचित प्रबंध किए गए हैं। समाज सेवी संगठनों ने भी यात्रा मार्ग पर लंगरों की व्यवस्था की है। सुरक्षा एजेंसियों के अलावा सभी सरकारी विभागों और अन्य स्वयंसेवी संगठनों में बेहतर तालमेल देखने को मिल रहा है।

अमरनाथ यात्रा के दौरान हमेशा आतंकी साया मंडराता रहता है। श्रद्धालुओं की यात्रा को सुगम व सफल बनाने के लिए जिला स्तर पर ज्वाइंट कंट्रोल रूम स्थापित किया गया है, जिनमें अमरनाथ यात्राओं को यात्रा मार्ग के मौसम व भीड़ के बारे में जानकारी दी जाती है।

अमरनाथ यात्रा के सबसे ऊंचाई वाले क्षेत्र महागणेश टॉप में लंगर की व्यवस्था की गई है, जिसमें श्रद्धालुओं को ठंड मौसम से राहत देने के लिए गर्म पानी उपलब्ध करवाया जाता है। पहलगाम रूट के सभी पड़ाव पिस्सू टॉप, शेषनाग, महा गणेश टॉप, पोशपत्री, पंचतरणी, संगम तथा पवित्र गुफा में प्रकृति आपदा तथा किसी हादसे से निपटने के लिए राज्य पुलिस की माउंटेनिय¨रग टीम के साठ सदस्यों को तैनात किया गया है।

गैर पंजीकृत यात्री को जाने की इजाजत नहीं दी जा रही

पुलिस महानिदेशक अमरनाथ श्राइन बोर्ड के निर्देशानुसार किसी भी गैर पंजीकृत यात्री को जाने की इजाजत नहीं दी जा रही। पहलगाम रूट पर चंदनवाड़ी में हरेक श्रद्धालु के पंजीकरण की जांच की जा रही है जबकि बालटाल मार्ग से दोमेल प्वाइंट पर पंजीकरण की जांच की जा रही है।

''यात्रा के दौरान श्रद्धालुओं को किसी तरह की कोई परेशानी न हो, इसका पूरा ध्यान रखा जा रहा है। उनकी सुरक्षा से लेकर सेहत तक को ध्यान में रखकर सभी प्रबंध किए गए हैं।'' -सिमरनदीप सिंह, डिप्टी कमिश्नर जम्मू

Posted By: Rajesh Niranjan

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप