देवी की आराधना का पर्व 

मां दुर्गा की पूजा का उत्सव नवरात्रि इस बार 10 अक्टूबर 2018 बुधवार से शुरू हो रहा है। इस नवरात्रि में कई एेसे संयोग बन रहे हैं जो विधि पूर्वक पूजा करने वालों को अदभुत फल देने वाले हैं। पंडितों के अनुसार, ये नवरात्रि पूरे 9 दिनों की हैं आैर देवी मां इस वर्ष नाव पर सवार होकर आयेंगी। ज्योतिषियों का मानना है कि नौका पर माता के आने से सर्वसिद्धि की प्राप्ति होती है। नवरात्रि के पर्व पर देवी के नौ शक्ति रुप की पूजा होती है | यह सभी स्वरूप शक्ति और भक्ति के भंडार हैं| ये रूप हैं शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी, चन्द्रघंटा, कूष्मांडा, स्कंदमाता, कात्यायनी, कालरात्रि, महागौरी, आैर सिद्धिदात्री। इन सभी की पूजा के के लिए विशेष बीज मंत्र भी हैं। 

हर रूप के लिए है एक बीज मंत्र

शास्त्रों के अनुसार देवी के हर स्वरूप के लिए एक पृथक बीज मंत्र होता है। नवरात्रि में इन मंत्रों का जाप करने से जाने शक्ति रूपणी मां अत्यंत प्रसन्न होती हैं। आइए जानें वे बीज मंत्र जो इन नौ देवी स्वरूपों को प्रसन्न करते हैं।

1.शैलपुत्री: ह्रीं शिवायै नम: 

2.ब्रह्मचारिणी: ह्रीं श्री अम्बिकायै नम:

3.चन्द्रघंटा: ऐं श्रीं शक्तयै नम: 

4.कूष्मांडा: ऐं ह्री देव्यै नम:

5.स्कंदमाता: ह्रीं क्लीं स्वमिन्यै नम:

6.कात्यायनी: क्लीं श्री त्रिनेत्रायै नम:

7.कालरात्रि: क्लीं ऐं श्री कालिकायै नम:

8.महागौरी: श्री क्लीं ह्रीं वरदायै नम: 

9.सिद्धिदात्री: ह्रीं क्लीं ऐं सिद्धये नम:

 

Posted By: Molly Seth