नई दिल्ली, डिजिटल डेस्क | Vinayak Chaturthi 2022, Puja Vidhi: हिन्दू धर्म में भगवान गणेश की पूजा सभी देवताओं में सबसे पहले होती है। वहीं प्रत्येक मास में पड़ने वाले विनायक चतुर्थी व्रत का विशेष महत्व है। यह व्रत भगवान गणेश की पूजा के लिए सपर्पित है। मान्यता है कि आज के दिन गणेश जी की पूजा करने से सभी दुःख दूर हो जाते हैं। कृष्णपक्ष की चतुर्थी तिथि के दिन संकष्टी चतुर्थी व्रत और शुक्लपक्ष की चतुर्थी को विनायक चतुर्थी व्रत रखा जाता है। हिन्दू पंचांग के अनुसार आज 26 नवम्बर 2022 (Vinayak Chaturthi 2022 Date) यानि मार्गशीर्ष मास के शुक्लपक्ष की चतुर्थी तिथि के दिन विनायक चतुर्थी व्रत रखा जाएगा। इस दिन भगवान गणेश की विशेष पूजा का विधान है। आइए जानते हैं किस की जानी चाहिए भगवान गणेश की पूजा और क्या है इस दिन का महत्व।

विनायक चतुर्थी पर इस तरह करें पूजा (Vinayak Chaturthi 2022 Puja Vidhi)

  • शास्त्रों में बताया गया है कि विनायक चतुर्थी के दिन भक्तों को ब्रह्म में स्नान-ध्यान करना चाहिए और लाल रंग का वस्त्र धारण करना चाहिए।

  • पूजन के समय भगवान गणेश जी की प्रतिमा एक साफ और नए वस्त्र पर स्थापित करें।

  • ऐसा करने के बाद षोडशोपचार पूजन कर श्री गणेश की आरती करें और फिर उन्हें सिन्दूर अर्पित करें।

  • इस दौरान 'ॐ गं गणपतयै नम:' मंत्र का जाप निरंतर करते रहें और फिर गणेश जी को उनकी प्रिय चीज दूर्वा उन्हें अर्पित करें। साथ ही उन्हें 21 लड्डुओं का भोग अर्पित करें।

  • पूजा के दौरान श्री गणेश स्तोत्र और संकटनाशक गणेश स्त्रोत का पाठ सच्चे मन से करें। साथ ही संध्या काल में णेश चतुर्थी कथा और गणेश चालीसा का पाठन व श्रवण करें।

  • अंत में संध्या पूजा के दौरान गणेश जी की आरती जरूर करें। शास्त्रों में बताया गया है कि बिना आरती के कोई भी पूजा सफल नहीं होती है।

विनायक चतुर्थी पूजा का महत्व (Vinayak Chaturthi 2022 Importance)

शास्त्रों में विनायक चतुर्थी के दिन पूजा के लिए दोपहर और शाम का समय निर्धारित किया गया है। दोनों समय पूजा-पाठ की जाती है। मान्यता है कि इस दिन पूजा करने से भक्तों के सभी कार्य सिद्ध हो जाते हैं और व्यक्ति की सभी मनोकामना पूर्ण हो जाती है। साथ भक्तों को धन, ऐश्वर्य, बुद्धि और बल की प्राप्ति होती है।

Pic Credit: Freepik

डिसक्लेमर- इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।

Edited By: Shantanoo Mishra

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट