Vinayak Chaturthi 2020: हिंदी पंचांग के मार्गशीर्ष मास की विनायक चतुर्थी आज 18 दिसंबर दिन शुक्रवार को है। इसे दिसंबर की विनायक चतुर्थी भी कह सकते हैं। ​किसी भी हिंदी मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि को विनायक चतुर्थी कहते हैं, जबकि कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को संकष्टी चतुर्थी कहा जाता है। एक माह में दो चतुर्थी, एक विनायक और दूसरी संकष्टी चतुर्थी आती है। विनायक चतुर्थी के दिन विघ्नहर्ता श्री गणेश जी की विधि विधान से पूजा अर्चना की जाती है। आइए जानते हैं मार्गशीर्ष के विनायक चतुर्थी का मुहूर्त क्या है?

विनायक चतुर्थी मुहूर्त

हिन्दू कैलेंडर के मार्गशीर्ष मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि का प्रारंभ आज 17 दिसंबर को दोपहर 03 बजकर 17 मिनट से हो रहा है। यह तिथि 18 दिसंबर को दोपहर 02 बजकर 22 मिनट तक मान्य होगी। ऐसे में विनायक चतुर्थी का व्रत 18 दिसंबर दिन शुक्रवार को रखा जाएगा।

विनायक चतुर्थी पूजा मुहूर्त

विनायक चतुर्थी के दिन पूजा के लिए आपको दिन में 02 घंटे 04 मिनट का समय प्राप्त होगा। शुक्रवार के दिन 11 बजकर 16 मिनट से दोपहर 01 बजकर 20 मिनट तक आपको विनायक चतुर्थी की पूजा कर लेनी चाहिए।

विनायक चतुर्थी व्रत का महत्व

विनायक चतुर्थी का व्रत करने से भगवान श्री गणेश अपने भक्तों को ज्ञान, बुद्धि और धैर्य का आशीष प्रदान करते हैं। इससे वह जीवन में उन्नति करता है, साथ ही उसकी मनोकामनाएं भी पूर्ण होती हैं। भगवान गणपति अपने भक्तों के कष्टों को दूर करते हैं तथा उसके ​जीवन में आने वाली विघ्न-बाधाओं को खत्म कर देते हैं।

डिसक्लेमर

'इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी। '

Edited By: Kartikey Tiwari