सरल है गणेश जी की पूजा 

गणपति पूजन की विधि अत्‍यंत सरल है। वैसे तो भगवान विनायक जी की पूजन में वेद मंत्र का उच्चारण करना सर्वोत्‍म माना जाता है, परंतु जिन्हें वेद मंत्र न आता हो, उनको नाम-मंत्रों से पूजन करना चाहिए। इसके लिए स्नान के पश्चात अपने पास समस्त पूजन सामग्री रख लें। अब आसन पर पूर्व दिशा की ओर मुख करके बैठकर तीन बार ये तीनों मंत्र बोलकर आचमन करें। ऊं केशवाय नम:, ऊं नारायणाय नम: और ऊं माधवाय नम:। इसके बाद आचमन करके हाथ में जल लेकर 'ऊं ऋषिकेशाय नम: बोलकर हाथ धो लें। बस उसके बाद फल, फूल अर्पित करके पूजा समपन्‍न करें।

ये हैं लम्‍बोदर की प्रिय सामग्री

भगवान गणेश को कुछ चीजें बेहद प्रिय हैं उनकी पूजा में उनका प्रयोग करने से अत्‍यंत प्रसन्‍न होते हैं। जैसे उनका प्रिय भोग हैं मोदक और लड्डू। प्रिय पुष्प के रूप में उन्‍हें कोई भी लाल रंग के फूल चढ़ायें। वहीं गणपति की प्रिय वस्‍तु है दुर्वा यानि दूब और शमी-पत्र। 

 

By Molly Seth