Surya Kumbha Sankranti 2020: सूर्य देव जब मकर रा​शि से निकलकर कुंभ राशि में प्रवेश करते हैं तो उसे सूर्य कुंभ संक्रांति कहा जाता है। इसका अर्थ यह भी है कि कुंभ संक्रांति से हिन्दू कैलेंडर के 12वें मास का प्रारंभ होता है। सूर्य कुंभ संक्रांति आज गुरुवार 13 फरवरी 2020 को हो रहा है। कुंभ संक्रांति के दिन गंगा नदी में स्नान का विधान है। आज के दिन प्रयागराज में संगम पर स्नान को अत्यंत फलदायाी माना गया है। स्नान के बाद दान आवश्यक है। आपको बता दें कि कुंभ संक्रांति के दिन से ही संगम पर कुंभ मेले का आयोजन होता है।

सूर्य कुंभ संक्रांति मुहूर्त

सूर्य देव कुंभ राशि में आज दोपहर 03 बजकर 18 मिनट पर प्रवेश करेंगे।

आज कुंभ संक्रांति का पुण्य काल सुबह 09 बजकर 22 मिनट से दोपहर 03 बजकर 18 मिनट तक। पुण्य काल की कुल अवधि 05 घण्टे 56 मिनट की है।

कुंभ संक्रांति का महा पुण्य काल दोपहर 01 बजकर 27 मिनट से दोपहर 03 बजकर 18 मिनट तक। महा पुण्य काल की कुल अवधि 01 घण्टा 51 मिनट है।

सूर्य आराधना, स्नान एवं दान

कुंभ संक्रांति के दिन सूर्य देव की आराधना की जाती है। इस दिन सूर्य देव को स्नान के बाद अर्घ्‍य दें और आदित्‍य ह्रदय स्रोत का पाठ करें। ऐसा करने से जीवन में सफलता मिलती है। आज के दिन सूर्य देव की पूजा करने से निरोगी जीवन का अशीर्वाद प्राप्त होता है। मान-सम्मान में वृद्धि होती है।

कुंभ संक्रांति के दिन स्नान के बाद गरीबों को वस्‍त्र, अन्न आदि का दान करने से पुण्य लाभ होता है। कुंभ संक्रांति को सूर्य देव के बीज मंत्र ओम घृणि: सूर्याय नम: का जाप करने से व्यक्ति के समस्त दुखों से मुक्ति मिल जाती है।

13 फरवरी 2020 का पंचांग

तारीख: 13 फरवरी 2020, दिन: गुरुवार।

फाल्गुन मास, कृष्ण पक्ष, पंचमी तिथि।

आज का राहुकाल: दोपहर 01:30 बजे से अपराह्न 03:00 बजे तक।

आज का दिशाशूल: दक्षिण।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस