Solar Eclipse 2021: 4 दिसंबर को सूर्य ग्रहण पड़ने वाला है। इस दिन शनिचरी अमावस्या भी है। सूर्य ग्रहण एशिया को छोड़कर अफ्रीका और दक्षिण अमेरिका महादेश के कई देशों में दिखाई देगा। धार्मिक ग्रंथों में निहित है कि सूर्य ग्रहण के दौरान कोई शुभ कार्य नहीं करना चाहिए। साथ ही अन्न -जल ग्रहण करने की भी मनाही रहती है। सूर्य ग्रहण और अमावस्या के दिन पूजा, जप, तप और दान का विशेष महत्व है। ज्योतिषों की मानें तो सूर्य ग्रहण के दौरान दान करने से जीवन में सुख और समृद्धि का आगमन होता है। साथ ही सभी दुःख और दर्द दूर हो जाते हैं। आइए जानते हैं कि सूर्य ग्रहण के दौरान किन चीजों का दान करना चाहिए-

-सूर्य ग्रहण में गरीबों एवं जरूरतमंदों को जथा शक्ति तथा भक्ति भाव से दान-पुण्य करें। इसके पुण्य प्रताप से अमोघ फलों की प्राप्ति होती है। साथ ही पितरों को मोक्ष मिलता है।

-सूर्य ग्रहण के दौरान जूते का दान करना चाहिए। इससे जीवन में समृद्धि का आगमन होता है। ज्योतिषों की मानें तो जूते का दान करने से राहु-केतु का प्रभाव कम होता है।

-अमावस्या के दिन दान करने से पितरों को मोक्ष की प्राप्ति होती है। इसके लिए शनिचरी अमावस्या के दिन अन्न-जल का दान अवश्य करें। आप असहाय लोगों को आर्थिक सहायता भी दे सकते हैं।

-पितरों को प्रसन्न करने के लिए सूर्य ग्रहण में गरीबों और जरूरतमंदों को दान में जूते भेंट कर सकते हैं। इससे पितर प्रसन्न होते हैं। पितरों के प्रसन्न होने से घर में खुशहाली आती है।

-ग्रहण के समय और बाद में गाय को चारा और पक्षियों को दाना देना चाहिए।

-धार्मिक मान्यता है कि ग्रहण काल में कंबल का दान करना उत्तम होता है। इससे करियर और कारोबार को नया आयाम मिलता है। अगर कारोबार में अस्थिरता है, तो अमावस्या के दिन काले कंबल का दान अवश्य करें।

-ज्योतिषों की मानें तो शनि कमजोर होने पर शनि अमावस्या के दिन दान जरूर करना चाहिए।

डिस्क्लेमर

''इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना में निहित सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्म ग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारी आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना के तहत ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।''

Edited By: Umanath Singh