सावन का पहला सोमवार आज है। इस दिन भगवान शिव की विधि विधान से पूजा और व्रत करने से संतान सुख, धन-वैभव, मनोवांछित वर आदि तो प्राप्त होते ही हैं, अकाल मृत्यु और मृत्यु समान कष्ट से भी छुटकारा मिलता है। सावन के पहले सोमवार को आज भगवान महाकाल की पहली सवारी निलेगी। वे मनमहेश के रूप में भक्तों को दर्शन देंगे।

उज्जैन के राजा भगवान महाकाल इस बार श्रावण मास में 4 सोमवार को चांदी की पालकी में सवार होकर अपनी प्रजा का कुशलक्षेम लेंगे। भादो मास में भी दो बार उनकी सवारी निकलेगी। इस बार श्रावण मास में 4 सोमवार हैं, इसलिए भगवान महाकाल 4 बार अपनी प्रजा का हाल-चाल लेने नगर भ्रमण पर निकलेंगे।

भगवान महाकालेश्वर की आज सुबह भस्म आरती हुई, जिसमें काफी संख्या में श्रद्धालु उपस्थित रहे। राजाधिराज भगवान महाकाल की मंदिर में पूजा के पश्चात शाम को 4 बजे पालकी तैयार होगी, उस पर भगवान महाकाल सवार होंगे और अपने प्रजा से मिलने निकलेंगे।

Sawan 2019: सावन का पहला सोमवार व्रत आज, जानें पूजा विधि और महत्व

Sawan 2019: चार सोमवार करें बस यह एक काम, शिव कृपा से हर कार्य होगा सफल

महाकाल की पालकी परंपरागत मार्गों से होते हुए शिप्रा नदी के तट पर रामघाट जाएगी। वहां पर बाबा महाकाल का शिप्रा के पवित्र जल से अभिषेक किया जाएगा। इसके बाद उनकी पालकी महाकालेश्वर मंदिर लौट आएगी।

Posted By: kartikey.tiwari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप