शुभ है शनि आैर सावन का संयोग 

इस बार 28 जुलार्इ यानि शनिवार से शिव जी के प्रिय महीने यानि सावन की शुरुआत हो रही है। सावन आैर शनिवार का ये संयोग अत्यंत अशुभकारी माना जा रहा है क्योंकि शिव, शनिदेव के भी आराध्य है आैर उन्हें शिवांश भी कहा जाता है। इस बात को बेहद खास इसलिए भी माना जा रहा है क्योंकि यह दुर्लभ संयोग कई वर्षों बाद देखने को मिल रहा है।इस दिन से विधि पूर्वक पूजा करके जिन लोगों पर शनि की साढ़े साती का प्रकोप है वे रुद्राभिषेक करके कष्टों आैर इसके कठोर प्रभावों से राहत पा सकते हैं। ज्‍योतिष के अनुसार जहां शनि दंड आैर न्याय के देवता हैं तो वहीं, उनके आराध्य शंकर जी कल्याणकारी आैर सहज प्रसन्न होने वाले भोलेनाथ कहे जाते हैं। एेसे में सावन माह की शुरूआत में ही शिव की कृपा दृष्टि प्राप्त करने के इस अवसर का लाभ उठा कर शनि के प्रकोप से छुटकारा पाया जा सकता है। 

रुद्राभिषेक आैर मंत्रों से करें पूजा 

जिन लोगों को शनि की दृष्टि से कष्ट उठाना पड़ रहा है वे सावन के पहले ही दिन से शिव जी कि विधि विधान से पूजा प्रारंभ कर दें। इसके लिए वे प्रथम दिन पर ही रुद्राभिषेक तो करें ही साथ ही महामृत्युंजय मंत्र का जाप भी करें। विशेष रूप से जो लोग तकनीकी क्षेत्रों में काम कर रहे हैं शनि के प्रकोप का शिकार हैं वे तो अवश्य ही इस दिन महामृत्युंजय मंत्र का जाप करते हुए पूजा करें। इसके अलावा आप शनि के बीज मंत्र का जाप भी कर सकते हैं।

इन तरीकों से भी करें अभिषेक 

ह‍िंदू धर्म में सावन माह शिव जी की आराधना के लि‍ए महत्‍वपूर्ण माना जाता है। इन द‍िनों श‍िव जी का विभिन्न प्रकार से अभ‍िषेक करने से मनचाहा फल मि‍लता है, एेसा पंडितों आैर ज्योतिषियों का मानना है। इसलिए आप नीचे दिए गए तरीकों से पूरे माह शिवजी का अभिषेेक करके उन्हें प्रसन्न कर आर्शिवाद प्राप्त कर सकते हैं। 

1- श‍िव जी पर दूध की धारा से अभिषेक क‍रने से भक्‍तों की बुद्धि प्रखर होती है। 

2- श‍िव जी पर इत्र से अभि‍षेक करने पर भक्‍तों की काम सुख व भोग की वृद्धि होती है।

3- भगवान भोलेनाथ पर शहद से अभिषेक करने से टीबी रोग का नाश हो जाता है।

4- वहीं शि‍व जी पर गन्ने के रस से अभ‍िषेक करने से आनंद की प्राप्ति होती है।

5- भगवान श‍िव पर गंगा जल से अभ‍िषेक करने से सर्वसुख व मोक्ष की प्राप्ति होती है।

6- घृत से श‍िव जी पर अभिषेक करने से न‍ि:संतान लोगों को संतान की प्राप्‍त‍ि‍ होती है। 

By Molly Seth