नई दिल्ली, Paush Month Vrat Tyohar 2022: हिंदू धर्म में पौष मास का विशेष महत्व है। इस मास को पूस मास भी कहा जाता है।  इस माह में दान, स्नान और जप करना शुभ माना जाता है।  पौष माह में भगवान सूर्य की पूजा करने का विशेष महत्व है। माना जाता है कि पौष माह के रविवार को व्रत रखने के साथ तिल चावल की खिचड़ी बनाकर भगवान सूर्य को भोग लगाने से शुभ फलों की प्राप्ति होती है। इसके साथ ही व्यक्ति तेजस्वी और ओजस्वी बनता है। पौष माह में कई बड़े व्रत त्योहार पड़ रहे हैं। आइए जानते हैं हिंदू कैलेंडर के अनुसार पौष मास में पड़ने वाले व्रत त्योहार।

कब से कब तक पौष मास 2022

हिंदू पंचांग के अनुसार,  9 दिसंबर से पौष माह प्रारंभ हो रहा है जो अगले साल 17 जनवरी 2023 को समाप्त हो रहा है।  

पौष माह का महत्व

हिंदू धर्म के अनुसार, हर एक माह किसी न किसी देवी-देवता को समर्पित होता है। इसी तरह पौष मास भगवान सूर्य को समर्पित है। विक्रम संवत में पौष माह को दसवां महीना माना जाता है। दरअसल, भारतीय महीनों के नाम नक्षत्रों के हिसाब से रखे गए हैं। ऐसे में पूर्णिमा के दिन चंद्रमा जिस नक्षत्र में होते हैं उसी के आधार में मास का नाम रखा जाता है। इसी तरह पौष मास की पूर्णिमा को चंद्रमा पुष्य नक्षत्र में रहता है। इसी कारण इसे पौष मास कहा जाता है।

पौष मास 2022 में पड़ने वाले व्रत त्योहार ( Paush Month Vrat Tyohar 2022)

11 दिसंबर 2022, रविवार- संकष्टी चतुर्थी

16 दिसंबर 2022, शुक्रवार- धनु संक्रांति (सूर्य का धनु राशि में प्रवेश)

19 दिसंबर 2022, सोमवार- सफला एकादशी

21 दिसंबर 2022, बुधवार- प्रदोष व्रत (कृष्ण), मासिक शिवरात्रि

23 दिसंबर 2022, शुक्रवार- पौष अमावस्या

25 दिसंबर 2022, रविवार- क्रिसमस

1 जनवरी 2023, रविवार- नया साल आरंभ

2 जनवरी 2023, सोमवार-  वैकुंठ एकादशी , पौष पुत्रदा एकादशी

3 जनवरी 2023, मंगलवार- कूर्म द्वादशी व्रत

4 जनवरी 2023, बुधवार- रोहिणी व्रत , प्रदोष व्रत

6 जनवरी 2023, शुक्रवार- माघ स्नान प्रारंभ , पूर्णिमा व्रत , पौष पूर्णिमा , पूर्णिमा , सत्य व्रत 10 जनवरी 2023, मंगलवार- सकट चौथ , संकष्टी गणेश चतुर्थी

14 जनवरी 2023,शनिवार- पोंगल , स्वामी विवेकानंद जयंती , लोहड़ी , मकर संक्रांति

15 जनवरी 2023, रविवार- कालाष्टमी , गंगा सागर स्नान

डिसक्लेमर

इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।

Edited By: Shivani Singh

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट