नई दिल्ली, Makar Sankranti 2023: ज्योतिष गणना के अनुसार, साल में 12 बार सूर्य 12 राशियों पर गोचर करते हैं। राशि पर प्रवेश करने को संक्रांति नाम से जानते हैं। ऐसे में जब सूर्यदेव मकर राशि में प्रवेश कर रहे हैं, तो इसे मकर संक्रांति कहा जाएगा। हिंदू धर्म में मकर संक्रांति का काफी अधिक महत्व है। इस दिन स्नान दान का काफी अधिक महत्व है। इसे खिचड़ी नाम से भी जानते हैं। इसी कारण इस दिन सूर्यदेव की विधिवत पूजा करने के साथ खिचड़ी बनाकर खाना शुभ माना जाता है। आमतौर पर हर साल 14 जनवरी को मकर संक्रांति का पर्व मनाया जाता है। लेकिन इस साल तिथि को लेकर थोड़ा सा असंजस है। क्योंकि इस साल सूर्यदेव शाम के समय मकर राशि में प्रवेश कर रहे हैं। जानिए मकर संक्रांति की सही तिथि, मुहूर्त और महत्व।

मकर संक्रांति 2023 तिथि और शुभ मुहूर्त (Makar Sankranti 2023 Date And Shubh Muhurat)

ज्योतिष गणना के अनुसार, सूर्यदेव 14 जनवरी 2023 की रात 8 बजकर 21 मिनट पर मकर राशि राशि में प्रवेश कर रहे हैं। ऐसे में 15 जनवरी को उदया तिथि पर मकर संक्रांति का पर्व होगा।

मकर संक्रांति तिथि- 15 जनवरी 2023, रविवार

मकर संक्रांति का पुण्य काल- सुबह 7 बजकर 15 मिनट से शाम 7 बजकर 46 मिनट पर

मकर संक्रांति का महा पुण्य काल- सुबह 7 बजकर 15 मिनट से 9 बजे तक

मकर संक्रांति 2023 पर बन रहा खास संयोग

साल 2023 में मकर संक्रांति पर खास संयोग बन रहा है। इस दिन चित्रा, रोहिणी नक्षत्र के साथ ब्रह्म योग बन रहा है। इसके साथ ही 14 जनवरी को सूर्य मकर राशि में प्रवेश कर रहे हैं। बता दें कि इस राशि में पहले से ही बुध और शनि ग्रह विराजमान है। ऐसे में त्रिग्रही योग बन रहा है। यह योग कई राशियों के लिए अच्छा, तो कई राशियों के लिए मुश्किलें पैदा कर सकता है।

मकर संक्रांति 2023 का महत्व

मकर संक्रांति के दिन दान करने का विशेष महत्व है। इस दिन दान करने अन्य दिनों से अधिक फलकारी माना जाता है। इसलिए मकर संक्रांति के दिन अन्न, गुड़, तिल और वस्त्र का जरूर दान करना चाहिए। इसके अलावा माना जाता है कि मकर संक्रांति के दिन देव भी धरती पर अवतरित होते हैं।

Pic Credit- Freepik

डिसक्लेमर

इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।

Edited By: Shivani Singh

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट