हिंदी पंचांग के अनुसार, पूर्णिमा तिथि के बाद नए महीने की शुरुआत होती है। इस तरह पौष महीने की पूर्णिमा के बाद माघ माह की शुरुआत हो चुकी है। माघ महीने की शुरुआत 18 जनवरी यानी आज से हो रही है। वेदों, पुराणों एवं शास्त्रों में माघ महीने में गंगा स्नान का विधान है। ऐसी मान्यता है कि माघ और कार्तिक माह में प्रतिदिन प्रातःकाल गंगा स्नान कर पूजा करने से व्यक्ति के समस्त पाप कट जाते हैं। साथ ही व्यक्ति को सभी सुखों की प्राप्ति होती है और जन्म-मृत्यु चक्र से मुक्ति मिलती है। दैविक काल से माघ और कार्तिक महीने में गंगा स्नान का प्रचलन है। इस महीने में श्रद्धालु पवित्र नदियों और सरोवरों में स्नान करते हैं। वहीं, माघ महीने में ही नियमित अंतराल पर कुंभ मेले का आयोजन किया जाता है। इस मौके पर देश और दुनिया के श्रद्धालु पवित्र नदी गंगा में आस्था की डुबकी लगाते हैं। आइए, माघ माह के स्नान की प्रमुख तिथियों के बारे में जानते हैं-

- 1 फरवरी को मौनी अमावस्या है। माघ माह में अमावस्या की तिथि को गंगा स्नान किया जाता है। अतः मौनी अमावस्या के दिन श्रद्धालु अपने आसपास के पवित्र नदियों में स्नान-ध्यान करेंगे। शास्त्रों में पूर्णिमा और अमावस्या की तिथियों को पूजा,जप, तप और दान का विधान है। इसके लिए मौनी अमावस्या के दिन गंगा स्नान के पश्चात पूजा और दान अवश्य करें।

- 5 फरवरी को वसंत पंचमी है। इस दिन संगीत और विद्या की देवी मां शारदे का प्रादुर्भाव हुआ है। अतः बड़ी संख्या में श्रद्धालु वसंत पंचमी के दिन गंगा स्नान कर मां शारदे की पूजा-उपासना करते हैं।

-8 फरवरी को अचला सप्तमी है। इस दिन भी गंगा स्नान का विधान है। इसे कई नामों से जाना जाता है। अचला सप्तमी को सूर्यरथ सप्तमी, पुत्र सप्तमी, रथ आरोग्य सप्तमी, आदि भी कहा जाता है। ज्योतिषों की मानें तो अचला सप्तमी के दिन गंगा स्नान से व्यक्ति को आरोग्य जीवन की प्राप्ति होती है। साथ ही व्यक्ति के सभी पाप धूल जाते हैं।

-16 फरवरी को माघी पूर्णिमा है। इस दिन बड़ी संख्या में श्रद्धालु गंगा, यमुना समेत देश के अन्य पवित्र नदियों में स्नान करते हैं। इस दिन गंगा घाट पर उत्स्व जैसा माहौल रहता है। संध्याकाल में गंगा आरती की जाती है। इसके अलावा, महाशिवरात्रि के दिन भी श्रद्धालु गंगा स्नान करते हैं।

डिसक्लेमर

'इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।'

Edited By: Umanath Singh