नई दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। हिन्दू धर्म में शनि देव को 'न्याय का देवता' कहा जाता है। ऐसी मान्यता है कि अच्छे कर्म करने वालों को शनि देव सुख समृद्धि और शांति देते हैं। जबकि बुरे कर्म करने वाले व्यक्ति को दंड देते हैं। ज्योतिष शास्त्र में निहित है कि एक बार व्यक्ति को शनि दोष लग जाता है, तो उसके जीवन में अमंगल ही अमंगल होने लगता है। कई मौकों पर ग्रह-नक्षत्र में बदलाव से भी व्यक्ति शनि दोष से प्रभावित हो जाता है। इससे मानसिक, शारीरिक और आर्थिक क्षति होने की संभावना बढ़ जाती है। अगर आप भी शनि दोष से प्रभावित हैं तो आइए जानते हैं कि कैसे शनि दोष को दूर अथवा कम किया जाता है-

-धार्मिक ग्रंथों में निहित है कि एक बार हनुमान जी ने शनि देव की सहायता कर उन्हें रावण के चंगुल से बचाया था। उस समय शनि देव ने उन्हें वरदान दिया था कि उनके भक्तों पर शनि की बुरी दृष्टि नहीं पड़ेगी। ऐसे में हनुमान जी की पूजा करने से शनि दोष समाप्त हो जाता है। हर रोज प्रातःकाल हनुमान चालीसा का पाठ करने से व्यक्ति शनि दोष से मुक्त रहता है।

-ऐसी मान्यता है कि भगवान शिव जी की पूजा करने से भी शादी की साढ़ेसाती खत्म हो जाती है। इसके लिए आप शनिवार के दिन शिव चालीसा का पाठ करें और महामृत्युंजय मंत्र का जाप रोजाना करें। ऐसा करने से शनि दोष शीघ्र ही दूर हो जाता है।

-शनि दोष से मुक्त होने और शनि देव की कृपा पाने के लिए अपने घर पर शमी का पेड़ जरूर लगाएं और रोज सुबह-शाम इनकी पूजा करें। ऐसा कहा जाता है कि शमी के पेड़ में शनिदेव विराजमान रहते हैं। इनकी पूजा करने से जीवन से सभी संकट दूर हो जाते हैं।

-शनिवार के दिन शनि देव की सरसों के तेल और काले तिल से पूजा करनी चाहिए। साथ ही शनि चालीसा का पाठ करना चाहिए। इस दिन दान-पुण्य करने से भी शनि दोष जल्द दूर हो जाते हैं।

Posted By: Umanath Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस