Move to Jagran APP

Shani Upay: शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए करें ये आसान उपाय, सभी संकटों से मिलेगी निजात

धार्मिक मत है कि शनिदेव की उपासना करने से व्यक्ति के सकल मनोरथ सिद्ध हो जाते हैं। साथ ही जीवन में व्याप्त समस्त प्रकार के दुख और संकट भी दूर हो जाते हैं। बड़ी संख्या में साधक दैनिक कार्यों से निवृत्त होने के बाद गंगाजल युक्त पानी से स्नान करते हैं। इसके बाद भक्ति भाव से शनिवार के दिन न्याय के देवता शनिदेव की पूजा करते हैं।

By Pravin KumarEdited By: Pravin KumarFri, 21 Jun 2024 10:33 AM (IST)
Shani Upay: तिल और सरसों के तेल से करें शनिदेव का अभिषेक

धर्म डेस्क, नई दिल्ली। Shani Upay: शनिवार का दिन शनिदेव को अति प्रिय है। इस दिन शनिदेव की पूजा की जाती है। साथ ही उनके निमित्त व्रत रखा जाता है। सनातन शास्त्रों में निहित है कि शनिदेव के शरण में रहने वाले साधकों को अपने जीवन काल में तो सब सुखों की प्राप्ति होती है। मृत्यु के पश्चात मोक्ष की प्राप्ति होती है। अतः शनिदेव को मोक्ष प्रदाता भी कहा जाता है। शनिदेव को मोक्ष प्रदाता का वरदान भगवान शिव से प्राप्त हुआ है। ज्योतिष भी कुंडली में अशुभ ग्रहों के प्रभाव को कम करने के लिए भगवान शिव एवं शनिदेव की पूजा करने की सलाह देते हैं। अगर आप भी शनिदेव को प्रसन्न कर उनकी कृपा के भागी बनना चाहते हैं, तो शनिवार के दिन पूजा के समय ये उपाय जरूर करें।

यह भी पढ़ें: कब और कैसे हुई धन की देवी की उत्पत्ति? जानें इससे जुड़ी कथा एवं महत्व


करें ये उपाय

  • शनिवार के दिन ब्रह्म मुहूर्त में उठें। दैनिक कार्यों से निवृत्त होने के बाद गंगाजल युक्त पानी से स्नान करें। इसके पश्चात, गंगाजल में काले तिल मिलाकर भगवान शिव का अभिषेक करें। इस उपाय को करने से शनिदेव प्रसन्न होते हैं। साथ ही उनकी कृपा साधक पर बरसती है।
  • शनिदेव की कृपा पाने के लिए शनिवार के दिन स्नान-ध्यान के बाद गंगाजल में काले तिल मिलाकर पीपल के वृक्ष में अर्घ्य दें। इस समय पीपल वृक्ष की तीन बार परिक्रमा करें। साथ ही कम से कम पांच बार उठक-बैठक करें।
  • शनिदेव को तिल और सरसों के तेल से अभिषेक किया जाता है। अतः शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए तिल के तेल या सरसों के तेल से अभिषेक करें। इस उपाय को करने से शनि दोष का प्रभाव कम हो जाता है।
  • शनिदेव न्याय के देवता कहे जाते हैं। अच्छे कर्म करने वाले को शुभ फल देते हैं। वहीं, बुरे कर्म करने वाले लोगों को दंड देते हैं। इसके लिए शनिवार के दिन अपनी आर्थिक स्थिति के अनुसार चमड़े के चप्पल, जूते, काले तिल, उड़द की दाल, छाता, टोपी आदि चीजों का दान करें।
  • मोक्ष प्रदाता शनिदेव का आशीर्वाद पाने के लिए शनिवार के दिन स्नान-ध्यान करने के बाद शनि यंत्र की पूजा करें। साथ ही इन मंत्रों का जप करें।
  • ऊँ प्रां प्रीं प्रौं सः शनये नमः
  • ऊँ शन्नो देवीरभिष्टडआपो भवन्तुपीतये।
  • ऊँ शं शनैश्चाराय नमः
  • ऊँ भगभवाय विद्महैं मृत्युरुपाय धीमहि तन्नो शनिः प्रचोदयात्

यह भी पढ़ें: इन 3 मंदिरों में लगती है यम देवता की कचहरी, इनमें एक है हजार साल पुराना

अस्वीकरण: इस लेख में बताए गए उपाय/लाभ/सलाह और कथन केवल सामान्य सूचना के लिए हैं। दैनिक जागरण तथा जागरण न्यू मीडिया यहां इस लेख फीचर में लिखी गई बातों का समर्थन नहीं करता है। इस लेख में निहित जानकारी विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों/दंतकथाओं से संग्रहित की गई हैं। पाठकों से अनुरोध है कि लेख को अंतिम सत्य अथवा दावा न मानें एवं अपने विवेक का उपयोग करें। दैनिक जागरण तथा जागरण न्यू मीडिया अंधविश्वास के खिलाफ है।