नई दिल्ली, Basant Panchami 2023: हिंदू कैलेंडर के अनुसार प्रत्येक वर्ष माघ महीने के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि के दिन बसंत पंचमी का पर्व मनाया जाता है। इस दिन ज्ञान, कला और वाणी की देवी मां सरस्वती की विधि विधान से पूजा अर्चना की जाती है। माना जाता है कि माघ माह के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को मां सरस्वती प्रकट हुई थीं। इसी कारण इस दिन मां सरस्वती की विशेष पूजा करने का विधान है। इस दिन गंगा स्नान, दान के साथ कापी-किताबों, कलम, बही खाते आदि की पूजा की जाती है। जानिए बसंत पंचमी की तिथि, शुभ मुहूर्त और महत्व।

बसंत पंचमी तिथि और शुभ मुहूर्त (Basant Panchami 2023 Date And Shubh Muhurat)

बसंत पंचमी 2023 तिथि- 26 जनवरी 2023

माघ मास की पंचमी तिथि प्रारंभ : 25 जनवरी 2023 को दोपहर 12 बजकर 34 मिनट से शुरू

माघ मास की पंचमी तिथि समाप्त : 26 जनवरी 2023 को सुबह 10 बजकर 28 मिनट तक

बसंत पंचमी पूजा मुहूर्त: 26 जनवरी 2023 को सुबह 7 बजकर 12 मिनट से दोपहर 12 बजकर 34 मिनट तक

बसंत पंचमी मध्याह्न : 26 जनवरी 2023, गुरुवार दोपहर 12 बजकर 39 मिनट पर

बसंत पंचमी का महत्व (Basant Panchami 2023 Signification)

बसंत पंचमी को श्री पंचमी, मधुमास और ज्ञान पंचमी के नाम से भी जानते हैं। इस दिन से बसंत ऋतु का भी आरंभ होता है। इस ऋतु के आरंभ होने के साथ सर्दी समाप्त की ओर बढ़ जाती है। इसके साथ ही पेड़-पौधे पुरानी पत्तियों को त्याग कर नई पत्तियों को जन्म देती है।

बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की विधि विधान से पूजा अर्चना का विधान है। ज्ञान, संगीत की देवी की पूजा करने से व्यक्ति की बुद्धि सुचारू रूप से काम करने लगती हैं। इसके साथ ही आलस्य से निजात मिल जाती है। इसके साथ ही बसंत पंचमी को अबूझ मुहूर्तों में से एक कहा जाता है। इसलिए इस दिन शुभ और मांगलिक कार्य करना लाभकारी माना जाता है।

डिसक्लेमर

इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।

Edited By: Shivani Singh

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट