नई दिल्ली, Janmashtami 2022: भगवान श्रीकृष्ण को सबसे प्रिय बांसुरी माना जाता है। माना जाता है कि भगवान कृष्ण की तस्वीर के पास बांसुरी रखने से सुख-समृद्धि और खुशहाली आती है। वास्तु शास्त्र में भी बांसुरी का अधिक महत्व है। वास्तु शास्त्र के अनुसार, घर में बांसुरी रखने से सिर्फ शुभता या शांति ही नहीं आती बल्कि घर में मौजूद वास्तु दोष भी समाप्त हो जाता है। वास्तु शास्त्र के अनुसार, इस साल जन्माष्टमी के दिन बांसुरी के कुछ वास्तु उपाय किए जाए, तो काफी शुभ होगा।

जन्माष्टमी पर करें ये बांसुरी संबंधी ये उपाय

व्यापार में लाभ के लिए

व्यापार में लगातार घाटा हो रहा है या फिर अन्य किसी तरह की दिक्कत बनी ही रहती है, तो बांस से बनी बांसुरी का इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके लिए जन्माष्टमी के दिन भगवान श्रीकृष्ण का पूजा करने के अपनी दुकान या ऑफिस की छत पर बांसुरी लटका दें। इससे आपको लाभ मिलेगा।

वैवाहिक जीवन के लिए

वैवाहिक जीवन में हमेशा कलह बनी रहती है। पति-पत्नी के बीच छोटी-छोटी बातों को लेकर अनबन होती रहती हैं, तो बांसुरी का इस्तेमाल करके दांपत्य जीवन में मिठास ला सकते हैं। इसके लिए दो बांसुरी लेकर बेड की बीम में लाल धागे या फिर रिबन से बांध दें। ऐसा करने से आपका रिश्ता और मजबूत हो जाएगा।

आर्थिक स्थिति के लिए

पैसों की तंगी का सामना कर रहे है या फिर लगातार कर्ज में डूबे चले जा रहे है, तो वास्तु शास्त्र के अनुसार, चांदी की बांसुरी को घर में रखें। इससे मां लक्ष्मी की कृपा भी हमेशा बनी रहेगी।

घर का वास्तु दोष दूर करने के लिए

वास्तु शास्त्र के अनुसार, घर का वास्तु दोष दूर करने के लिए बांसुरी जरूर रखें। इससे लाभ मिलेगा।

शनि के प्रकोप से बचने के लिए

जिन व्यक्तियों की कुंडली में शनिदेव का प्रकोप है। उन्हें बांसुरी से ये उपाय करना शुभ होगा। इसके लिए एक बांसुरी लेकर इसमें चीनी या फिर बूरा भरकर किसी निर्जन स्थान में दबा दें। ऐसा करने से शनि की साढ़े साती और ढैय्या के दोष से भी राहत मिलेगी।

Pic Credit- Freepik

डिसक्लेमर

इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।

Edited By: Shivani Singh