Move to Jagran APP

Devshayani Ekadashi पर जरूर घर लाएं ये चीजें, छूमंतर हो जाएंगी सभी समस्याएं

एकादशी को पूर्ण रूप से भगवान विष्णु की आराधना के लिए समर्पित माना जाता है। प्रत्येक वर्ष आषाढ़ माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी पर देवशयनी एकादशी मनाई जाती है। इस बार देवशयनी एकादशी 17 जुलाई बुधवार के दिन पड़ रही है। ऐसे में आप इस शुभ दिन पर कुछ चीजों को घर लाकर अपने सौभाग्य में वृद्धि कर सकते हैं।

By Suman Saini Edited By: Suman Saini Thu, 11 Jul 2024 12:46 PM (IST)
Devshayani Ekadashi 2024 देवशयनी एकादशी पर जरूर घर लाएं ये चीजें।

धर्म डेस्क, नई दिल्ली। देवशयनी एकादशी को हरिशयनी एकादशी के नाम से भी जाना जाता है। इस तिथि पर भगवान विष्णु के योग निद्रा में चले जाने के बाद शुभ कार्यों जैसे विवाह, मुंडन आदि पर रोक लग जाती है। इसके बाद कार्तिक माह देवउठनी एकादशी पर पुनः निद्रा से जागते हैं। ऐसे में आप देवशयनी एकादशी पर कुछ खास कार्यों द्वारा भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी की कृपा के पात्र बन सकते हैं।

जरूर घर लाएं ये चीज

भगवान श्री हरि विष्णु को गज अति प्रिय माना गया है। ऐसे में अगर आप भगवान विष्णु की कृपा पाना चाहते हैं, तो इसके लिए देवशयनी एकादशी पर एक सफेद हाथी की प्रतिमा अपने घर जरूर लेकर आएं। इस प्रतिमा को घर पर रखने से वास्तु दोष से भी राहत मिलती है।

मिलती हैं मां लक्ष्मी की कृपा

कछुए का संबंध मां लक्ष्मी से माना जाता है। ऐसे में आप देवशयनी एकादशी के दिन तांबे से बना कछुआ घर में ला सकते हैं। इस कछुए को अपने घर की उत्तर दिशा में स्थापित करें और विधि-विधान पूर्वक इसकी पूजा-अर्चना करें। ऐसा करने से धन लक्ष्मी की कृपा आपके ऊपर बनी रहती है।

यह भी पढ़ें - Devshayani Ekadashi 2024: देवशयनी एकादशी के दिन इस विधि से करें शालिग्राम जी की पूजा, जानें मंत्र और सामग्री

लाभकारी हैं ये चीजें

हिंदू मान्यताओं के अनुसार कामधेनु गाय को बहुत ही शुभ माना जाता है। ऐसे में आपको देवशयनी एकादशी के शुभ अवसर पर कामधेनु गाय की मूर्ति को अपने घर जरूर लाना चाहिए। इससे घर-परिवार में खुशहाली बनी रहती है। इसके साथ ही आप एकादशी पर भगवान विष्णु की प्रिय तुलसी भी अपने घर ला सकते हैं। ऐसा करने से नकारात्मकता दूर होती है।

यह भी पढ़ें - Devshayani Ekadashi 2024: देवशयनी एकादशी के दिन घर के इन स्थानों पर रखें तुलसी दल, सभी समस्याओं का मिलेगा हल

अस्वीकरण: इस लेख में बताए गए उपाय/लाभ/सलाह और कथन केवल सामान्य सूचना के लिए हैं। दैनिक जागरण तथा जागरण न्यू मीडिया यहां इस लेख फीचर में लिखी गई बातों का समर्थन नहीं करता है। इस लेख में निहित जानकारी विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों/दंतकथाओं से संग्रहित की गई हैं। पाठकों से अनुरोध है कि लेख को अंतिम सत्य अथवा दावा न मानें एवं अपने विवेक का उपयोग करें। दैनिक जागरण तथा जागरण न्यू मीडिया अंधविश्वास के खिलाफ है।