एक्टर और डांसर के रूप में पहचान बनाने वाली जोडी संभावना सेठ और अविनाश द्विवेदी किसी पहचान के मोहताज नहीं हैं। छोटे और बडे परदे पर अपने हुनर का कौशल दिखा चुकी यह जोडी पांच साल की कोर्टशिप के बाद इस साल जुलाई में परिणय सूत्र में बंधी लेकिन दोस्ती से शादी तक का उनका यह सफर किसी रोलरकोस्टर राइड से कम नहींथा। कैसे मिली उन्हें प्यार की यह मंजिल, आइए जानते हैं। पहली मुलाकात संभावना : एक चैनल के डांस रीअलिटी शो में हमारी पहली मुलाकात हुई थी। इस शो में मैं अविनाश की मेंटर थी। इस शो को जीतने के लिए हमने बहुत मेहनत की थी और आखिरकार हम जीत भी गए थे। अविनाश : यह शो छह महीने तक चला। इस दौरान उनका गाइड करना मुझे अच्छा लगता था। शो खत्म होने के बाद भी हम बात करते रहे। मुझे संभावना बेहद भाती थीं। मैं इस रिश्ते को आगे बढाना चाहता था लेकिन संभावना ने मुझे सख्ती से मना कर दिया। संभावना : मैंने कभी अविनाश के बारे में ऐसा नहीं सोचा था, जैसा अविनाश मेरे बारे में फील करते थे। लेकिन अविनाश ने अपनी कोशिश जारी रखी और इस बात का एहसास करवा कर ही दम लिया कि मेरे दिल में भी उनके लिए खास जगह है। अविनाश : मुझे लगभग एक साल लग गया संभावना को यह एहसास दिलाने में कि वह भी मुझसे प्यार करती हैं। पसंद-नापसंद संभावना : अविनाश एक बहुत अच्छे इंसान हैं। वह बहुत केयरिंग और जमीन से जुडे हुए हैं। इंसान को समझने की परख है उनमें। मैं किसी परेशानी में रहूं तो उन्हें पता होता है कि मुझे उस समस्या से कैसे बाहर निकालना है। उनकी इन्हीं बातों ने मेरा दिल जीत लिया है। अविनाश : संभावना दिल की बेहद साफ इंसान हैं। उनके दिल में जो होता है, वही उनकी जुबान पर होता है। वह मन में कभी कोई बात छुपाकर नहीं रखती हैं। उनकी यही बेबाकी मुझे अच्छी लगती है। जब उन्होंने मेरे प्रपोज करने पर न कहा था तो उस वक्त वही बात उनके दिल में थी और जब हां कहा तो उसमें भी पूरी सच्चाई थी। शादी में अडचन संभावना : मेरे घरवालों ने मेरे इस फैसले का बहुत विरोध किया। हालांकि मैं उनकी इस नाराजगी को समझती थी। मां-बाप हमेशा अपने बच्चों के भविष्य की सुरक्षा को लेकर डरे रहते हैं और उनकी यह नाराजगी इसी वजह से थी। उन्हें मनाने में काफी समय लगा लेकिन अंत में वे मान ही गए। अविनाश : मेरे घर में ऐसी कोई दिक्कत नहीं थी। घरवाले मेरे फैसले के साथ थे। दूरियां भी हैं जरूरी संभावना : घरवालों की नाराजगी के चलते मैंने अविनाश के साथ ब्रेकअप कर लिया था। यह ब्रेकअप लगभग छह महीने ही चला लेकिन ब्रेकअप के बाद जब हम मिले तो मैं समझ गई कि चाहे कुछ भी हो जाए, मैं अविनाश के बिना नहीं रह सकती। अविनाश : दोबारा पैचअप करने की कोशिश मैंने ही की थी। मैंने एक दिन संभावना को मेसेज किया और उनसे विडियो कॉल पर बात करने को कहा। छह महीने बाद हम दोनों ने जब एक-दूसरे का चेहरा देखा तो हम खूब हंसे। इसके बाद हम दस-पंद्रह दिन तक लगातार ऐसे ही बातें करते रहे। फिर जल्दी ही मुलाकात भी हुई। आदत अच्छी नहीं संभावना : अविनाश हमेशा लैपटॉप में घुसे रहते हैं। उनकी यह आदत मुझे बेहद खलती है। हालांकि मैं जानती हूं कि वह लैपटॉप पर काम ही कर रहे होंगे, फिर भी मैं चाहती हूं कि इसका इस्तेमाल घर पर कम से कम हो। अविनाश : संभावना को कैंडी क्रश खेलने की बीमारी है। कोई उनकी यह आदत छुडा दे तो मैं बूंदी का प्रसाद बांटूंगा। वक्त की कमी संभावना : हम दोनों ही एक वेब सीरीज पर काम कर रहे हैं। इस कारण बिजी तो काफी रहते हैं लेकिन हमें यह भी मालूम है कि एक-दूसरे के लिए समय कैसे निकालना है। इसलिए कोई समस्या नहीं होती। अविनाश : हम जब अलग-अलग लोकेशंस पर शूट कर रहे होते हैं तो जिसका काम पहले खत्म हो जाता है, वह दूसरे को जॉइन कर लेता है। हमारी अंडरस्टैंडिंग हमें हमेशा एक-दूसरे से जोडे रखती है। वैसे भी हमें पता है कि हमारा काम कैसा है और उसमें कैसी मुश्किलें आ सकती हैं। लिव इन रिलेशनशिप संभावना : मैं इसे बुरा नहीं मानती। साथ रहने में कोई बुराई नहीं है। हर चीज के दो पहलू होते हैं। लिव इन के अपने फायदे हैं तो कुछ नुकसान भी हैं। यह किसी रिश्ते की मजबूती की गारंटी नहीं हो सकता। अविनाश : लिव इन रिलेशनशिप में कोई शख्स तभी रहना चाहता है जब उसे दुविधा हो कि वह उस रिश्ते को निभा सकता है या नहीं। दरअसल यह दुविधा ही समस्या की मूल जड है। लिव इन इस दुविधा को दूर कर देगी, यह एक गलत सोच है। मैं इससे सहमत नहीं हूं। फिटनेस है जरूरी संभावना : अविनाश फिटनेस को लेकर बहुत जागरूक हैं। उनके कारण ही अब मुझे भी फिटनेस के प्रति लगाव पैदा हो गया है। अविनाश : हेल्दी लाइफ के लिए हेल्दी बॉडी का होना जरूरी है। मैं इसके लिए वर्कआउट करता हूं और अपने खानपान का ध्यान रखता हूं।