टोमैटो केचअप इसका इस्तेमाल न सिर्फ बर्गर, फ्राइज और सैंडविच में किया जाता है बल्कि इसे सब्जियों में मिक्स करके भी सर्व किया जाता है।

टमैटो केचअप बनाने के लिए ढेर सारे टमाटरों का इस्तेमाल किया जाता है, जो एंटी-ऑक्सीडेंट्स से भरपूर होते हैं। एक शोध के अनुसार, एंटी-ऑक्सीडेंट्स कई तरह के कैंसर से हमारा बचाव करते हैं। इसके साथ ही इसमें पाए जाने वाले फ्लेवोनॉइड और लाइकोपीन सूर्य की अल्ट्रा-वॉयलेट किरणों से त्वचा की सुरक्षा करने में भी मददगार साबित हुए हैं।

स्वाद बढाने के लिए सेलेरी, लौंग, लहसुन और प्याज के साथ नमक और मीठेपन के लिए कॉर्न सीरप का इस्तेमाल किया जाता है। इसमें सोडियम की मात्रा ज्य़ादा होती है इसलिए ज्य़ादा खाने से हाई ब्लड प्रेशर की समस्या हो सकती है। वहीं कॉर्न सीरप में कैलरीज अधिक होती हैं।

मस्टर्ड सॉस स्टर्ड यानी राई में विटमिन-बी कॉम्प्लेक्स का बढिय़ा स्त्रोत होता है। यह मेटाबॉलिज्म एंजाइम सिंथेसिस और नर्वस सिस्टम को नियंत्रित रखने में मददगार है। विटमिन बी3 कोलेस्ट्रॉल लेवल को कम करता है।

अमेरिकन येलो मस्टर्ड स्वाद में तीखा होता है। आलू के सैलेड में इसका इस्तेमाल किया जाता है। डिजॉन मस्टर्ड सॉस तीखा होता है, इसे मछली की डिशेज के साथ परोसा जाता है। बडे आकार के होलग्रेन मस्टर्ड मैरिनेशन के लिए परफेक्ट कॉम्बिनेशन हैं। इंग्लिश मस्टर्ड सीड्स को कीमा बनाते समय इस्तेमाल करने से स्वाद दोगुना होता है।

राई एक प्रकार का ऑयल सीड है, यही वजह है कि इसमें कैलरीज ज्य़ादा होती हैं। इस सॉस में नमक की अधिकता भी होती है। वैसे कैलरीज की मात्रा राई के प्रकार पर भी निर्भर करती है, जैसे हाई मस्टर्ड में येलो मस्टर्ड की तुलना में दोगुनी कैलरीज पाई जाती हैं।

टोमैटो बनाम मस्टर्ड सॉस 'टमैटो केचअप के टेस्ट को कोई मात नहीं दे सकता। मैं इसे बर्गर, समोसा, फ्राइज और प्लेन परांठा या ब्रेड के साथ खाती हूं। इसमें मीठे और नमकीन का सही बैलेंस है। इस केचअप के अलावा मुझे बाकी सॉस बेमानी लगते हैं। पूजा दक्ष, 29, एंट्राप्रिन्योर मुझे हर डिश में केचअप मिलाना पसंद नहीं। इससे डिश का असली स्वाद दब जाता है, जबकि मस्टर्ड सॉस डिश का स्वाद बढा देता है। डिश का मूल स्वाद भी बना रहता है। प्रबजोत कौर, 27, एचआर कंसल्टेंट

न्यूट्रिशनिस्ट की सलाह न्यूट्रिशनिस्ट डॉ. पूजा शर्मा बताती हैं कि दोनों तरह के सॉस सेहत के लिए सही नहीं होते क्योंकि दोनों में ही प्रिजर्वेटिव्स का इस्तेमाल किया जाता है। इसलिए दोनों का सेवन कम मात्रा में ही किया जाना चाहिए। मस्टर्ड सॉस की तुलना में टमैटो केचअप ज्य़ादा सेहतमंद है। अगर आपको ये दोनों सॉस पसंद हैं तो आप इन्हें होममेड तरीकों से बनाकर खाएं। इससे कैलरीज और सोडियम दोनों की मात्रा न के बराबर होगी, जो सेहत के लिहाज से फायदेमंद साबित होगा।