जयपुर, जेएनएन । राजसथान के अलवर जिले में रामगढ़ पुलिस थाना अंतर्गत बड़ौद गांव में गांव का नाम गलत बताने पर एक युवक को पड़ोसी गांव के आधा दर्जन लोगों ने पीट-पीटकर उसकी हत्या कर दी। इस हत्या के बाद शव को अस्पताल में लाया गया जहां परिजनों ने शव का पोस्टमार्टम कराने से इनकार कर दिया। परिजनों ने चेतावनी दी कि जब तक आरोपी गिरफ्तार नहीं होंगे तब तक शव नहीं लिया जाएगा।

पुलिस उपाधीक्षक दीपक शर्मा सहित भारी फोर्स रामगढ़ अस्पताल पहुंची। यहां काफी समझाने के बाद मृतक के परिजन मृतक का शव लेने को राजी हुए। इस मामले में मृतक के पिता ने आधा दर्जन लोगों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कराया है।

जानकारी के अनुसार बड़ोद गांव में दोपहर एक बजे समसुद्दीन व साहुन गांव की एक दुकान में कोल्ड ड्रिंक पी रहे थे। ठंडा पीने के बाद साहुन शौच के लिए चला गया। इतने में ही सरहटा गांव के शाकिर, तालीम, वारिस समसुद्दीन व सम्मल आए और उसकी बाइक को लात मारी और कहा कि हरियाणा नंबर की गाड़ी किसकी है। इसके बाद वे साहुन के पीछे चले गए और उसे पीटने लगे। साहुन की चीख-पुकार सुनकर उसका साथी सुबेदिन मौके पर गया। उसने परिजनों को सूचना दी, लेकिन तब तक उसकी मौत हो चुकी थी।

इसके बाद डेड बॉडी को रामगढ़ अस्पताल लाया गया। इसकी सूचना पाकर पुलिस उपाधीक्षक व थाना प्रभारी मौके पर पहुंच गए। परिजनों ने पोस्टमार्टम कराने से इनकार कर दिया। पुलिस ने तुरंत एक्शन लेते हुए कई टीमें रवाना की और आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए भी दबिश दी। लेकिन कोई भी आरोपी गिरफ्तार नहीं किया जा सका। काफी समझाने के बाद परिजन तैयार हुए। इस मामले में मृतक के पिता आसू जोगी ने नामजद आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है और पुलिस ने मामला दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है।  

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Preeti jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप