जोधपुर, रंजन दवे। राजस्‍थान के जोधपुर सेंट्रल जेल से एक वीडियो वायरल हुआ है। इस वीडियो में देखा जा सकता है कि इस जेल में कैदी खुलकर नशीले पदार्थ का उपयोग कर रहे हैं। कैदी अफीम का नशा करते हुए दिखाई दे रहे हैं इसके साथ ही मोबाइल का उपयोग करते और मोबाइल को कैसे रिपेयर किया जाता है यह भी बता रहे हैं हालांकि जेल प्रशासन की तरफ से इस बाबत कोई टिप्पणी नहीं की गई है।

राजस्‍थान के जोधपुर सेंट्रल जेल में कैदियों की मौज-मस्ती और सुरक्षा व्यवस्था की सच्‍चाई को बयां करती है। इस वीडियो में नजर आ रहा है कि जोधपुर जेल में बंद कैदी खुलेआम बड़ी मजे से ड्रग्स पार्टी कर रहे हैं।

जानकारी के अनुसार देश की सबसे सुरक्षित कही जाने वाली जोधपुर की सेंट्रल जेल अब सुरक्षित नहीं रही। यहां आए दिन किसी ना किसी कारण को लेकर सुरक्षा पर सवालिया निशान लगता जा रहा है। प्रतिबंधित सामग्रियों व मोबाइल के इस्तेमाल व अवैध वसूली की घटनाओं के बाद अब यहां से एक वीडियो वायरल हुआ है जिसमें कुछ बंदी अफीम पार्टी कर रहे है। एक बंदी ने यह वीडियो वायरल करने के साथ ही दो पन्नों का एक खत भी लिखा है जिसमें उसने अवैध वसूली सहित जेल प्रशासन पर कई गंभीर आरोप लगाए है।

दरअसल सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ है जो जोधपुर जेल के होने का दावा किया जा रहा। इस वीडियो में कुछ बंदी नशीले पदार्थों का सेवन करते हए दिखाई दे रहे है। इसके साथ ही खुलेआम मोबाइल का उपयोग करते हुए दिखाया गया है। एक बंदी द्वारा तो बकायदा एक मोबाइल की रिपेयरिंग तक भी की जा रही है। जेल में बंद आजाद सिंह नामक एक बंदी द्वारा जेल से यह वीडियो और फोटो वायरल करते हए जेल अधिकारी जगदीश प्रसाद पूनिया पर कई तरह के गंभीर आरोप लगाए गए है। उसने जेल के अंदर बंदियों से कई तरह की वसूली करने का आरोप लगाए है। उसने वीडियो वायरल करने के साथ ही दो पन्नों का यह खत लिखा है जिसमें उसने कई तरह की सहित आरोप वसूली इत्यादि के अलावा जेल प्रशासन अधिकारी पर धमकी देने और कैदियों के साथ मनमानी करने का आरोप लगाया है। बंदी पाली जिले के मारवाड जंक्शन का रहने वाला है और पिछले करीब तेरह सालों से जोधपुर की जेल में सजा काट रहा है। 

यह लिखा है खत में :

बंदी ने आरोप लगाते हुए खत में जेल अधिकारी जगदीश पूनिया को भ्रष्ट अधिकारी बताते हए लिखा है कि जेल में आने वाले राशन को स्टोर करते हुए उनको बंदियों को बड़े ऊंचे दामों में बेचा जा रहा जगदीश पूनिया द्वारा 250 लीटर तेल, 500 रुपये किलो मिर्ची पाउडर सहित कई तरह की चीजें छुपकर बेची जा रही है जिसका पैसा वह बंदियों के परिजनों से ऑनलाइन खाते के जरिए मंगवा रहा है।

जेल में वार्ड संख्या एक में जो भी नये बंदी आए हुए है उनको सब सुविधाएं दी जा रही है जैसे मोबाइल फोन, वीआईपी बैरक नशीले पदार्थ जैसी कई तरह सुविधा मुहैया करवाते हुए जगदीश पनिया द्वारा अपने जेल में चहेते बंदियों को लगाकर हमसे वसूली की जाती है। जेल में बनी कैंटीन के मुताबिक सरकार और जेल प्रशासन द्वारा तय किया हुआ मेन्यू में से 50 प्रतिशत वस्तुएं बंदियों को नहीं दी जा रही है।

जेल में कई तरह के गुटखे भी ब्लैक में बेचे जा है। जगदीश पूनिया जेल में पैसे वाले बंदियों की सुनवाई पहले करता है एवं गरीब बंदियों की सुनवाई नहीं करता है। जब इसके खिलाफ आवाज उठानी चाही उसे उसके बैरक में आकर तीन बार धमकिया दी गई कि इस संबंध में आवाज उठाई तो वह उसका स्थानांतरण दूसरे कारागृह में कर देगा जहां उसकी मुलाकात परिजनों से नहीं हो पाएगी । 

इनका कहना है :-

जोधपुर कारागृह अधीक्षक जगदीश पूनिया ने कहा कि सजायाफ्ता अपराधी बदमाश प्रवृत्ति का है और लगातार अपनी मनमर्जी करता है, जिसको रोकने पर अनर्गल आरोप मढ रहा है, जबकि जेल नियम के तहत ही कार्यवाही की जाती है। मोबाइल के संबंध में समय समय पर जेल में तलाशी अभियान चलाये जाते हैं।

Posted By: Preeti jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप