जयपुर, नरेन्द्र शर्मा। Coronavirus: कारोना के खिलाफ जंग में सरकार से लेकर सामाजिक संस्थाएं और आम आदमी अपने-अपने ढंग से भूमिका अदा कर रहे हैं। इन्ही में शामिल हैं जयपुर पुलिस की दो महिला कांस्टेबल। ये  फील्ड में ड्यूटी करने के साथ ही थाने में रखी सिलाई मशीन से मास्क तैयार कर कोरोना वॉरियर्स को बांटती हैं।

मुस्लिम बहुल सुभाष चौक पुलिस थान में तैनात दोनों महिला कांस्टेबल जब भी फील्ड में जाती हैं, अपने साथ मास्क लेकर जाती हैं और वे महिलाओं के बीच इनका वितरण करती हैं। कांस्टेबल सुनीता और कांस्टेबल नाथी कोरोना में अहम रोल निभा रही हैं। वह पुलिस थाने में ड्यूटी के साथ ही अपने साथी पुलिसकर्मियों और आम लोगों के लिए रोजाना मास्क सिल रही हैं। राज्य के पुलिस महानिदेशक भूपेंद्र यादव व जयपुर के पुलिस कमिश्नर आनंद श्रीवास्तव ने इन दोनों महिला कांस्टेबल को बधाई दी है। यादव ने कहा कि वे अन्य कोरोना वॉरियर्स के लिए मिसाल बन रही हैं।

सख्ती के साथ एक मां का दिल भी नजर आता है

कांस्टेबल सुनीता वर्ष 2006 और कांस्टेबल नाथी वर्ष 2015 में राजस्थान पुलिस में शामिल हुई थी। पिछले कुछ दिनों से कांस्टेबल सुनीता व नाथी पुलिस थाने में जरूरत के हिसाब से सिलाई मशीन से मास्क सिल रही है। दोनों ने मिलकर सिलाई मशीन का प्रबंध किया। दिनभर फील्ड में रहने के बाद शाम को पुलिस थाने में पहुंचकर मास्क तैयार करती हैं और अगले दिन फिर सुबह उनका वितरण करती हैं। कांस्टेबल सुनीता व नाथी कहती हैं कि कि वर्दी के फर्ज में मानवता की सेवा भी शामिल है।

कोरोना संक्रमण और लॉकडाउन के दौरान सैकड़ों लोगों ने ड्यूटी पर मौजूद पुलिसकर्मियों को मास्क प्रदान किए, ताकि वे सुरक्षित रहकर ड्यूटी कर सकें, लेकिन ये मेडिकल मास्क ज्यादा देर काम नहीं आ सके। इसके लिए कॉटन मास्क की जरूरत थी। वह पुलिस में भर्ती होने से पहले सिलाई करना जानती थी। ऐसे में अब महसूस हुआ कि यही सही वक्त है, जब सिलाई से साथियों की मदद की जा सकती है। वे बताती है कि सुभाष चौक थाना इलाके में लॉकडाउन व कर्फ्यू की पालना कराने के लिए फील्ड में जाती है तो जो भी महिला घर के दरवाजे पर खड़ी नजर आती है उन्हें मास्क देकर उनका उपयोग करने की सलाह देती हैं।

वे महिलाओं को घर मे सफाई रखने, बच्चों को बार-बार हाथ धुलवाने की आदत डालने व सैनिटाइजर का उपयोग करने की भी सलाह देती है। इन दोनों कांस्टेबल के बारे में साथी पुलिसकर्मी बताते हैं कि जब ये फील्ड में जाती हैं तो बेकार घूमने वाले लोगों के प्रति सख्ती भी दिखाती हैं और यदि कोई गरीब परिवार का बच्चा परेशान नजर आता है तो उसे प्यार भी करती है। 

राजस्थान की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Sachin Kumar Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस