जयपुर, जेएनएन। राजस्थान में जोधपुर की दो अनाथ बहनों को कनाड़ा के एक दंपति ने गोद लिया है। अब ये दोनों बहनें कनाड़ा में ही पलेंगी-बढ़ेंगी। गौरतलब है कि पांच साल की बच्ची राधिका और उसकी एक साल की बहन दीपिका अनाथ थी।

दोनों बहनें अपनी मां के साथ जोधपुर शहर की कच्ची बस्ती में रहती थीं, मगर पिछले साल उनकी मां की कैंसर से मौत हो गई थी। परिजन दोनों बहनों को अपनाने को तैयार नहीं थे। दोनों कुपोषित थी। उन्हें जोधपुर के एक अनाथ आश्रम नवजीवन संस्थान ने अपना लिया था।

नव जीवन संस्थान के प्रबंधक राजेंद्र परिहार ने बताया,"दोनों बच्चियां उनके ही अनाथालय में रह रही हैं। बच्चियों की मां एक शराबी व्यक्ति के साथ रहती थी। वह उन लोगों को मारता पीटता था। मां की मौत के बाद वह बच्चियों को छोड़कर चला गया।

संस्था के पदाधिकारियों को दोनों बच्चियों के अनाथ होने की जानकारी मिली तो, उन्हें हम लोग लेकर आ गए। यहां बड़ी बच्ची को अंग्रेजी माध्यम स्कूल में पढ़ाना प्रारम्भ किया। कुछ दिन पूर्व कनाडा के एक दंपति ने बच्चियों को गोद लेने की इच्छा जाहिर की, तो हमने यहां रह रही बच्चियों के बारे में बताया तो उन्हे राधिका और दीपिका पसंद आ गई। उन्होंने बच्चियों को गोद लेने की औपचारिकताएं पूरी कर दी हैं।

कनाड़ाई दंपति में पति का फर्नीचर का काम है, वहीं उनकी पत्नी वायलट डे-केयर सेंटर चलाती है। वे कनाड़ा के बैनक्रॉफ्ट में रहते हैं। नव जीवन संस्थान से इसी महीन एक बच्ची कजरी को भी एक विदेशी को गोद दिया गया था। एक स्वीडिश नर्स इलिन ने उसको गोद लिया था।

Posted By: Preeti jha