भीलवाड़ा, जेएनएन। राजस्थान के भीलवाड़ा में अंधविश्वास का चौंकाने वाला मामला सामने आया है। यहां एक कथित बाबा ने नवरात्र के पहले दिन बुधवार को समाधि लेने का प्रयास किया। हालांकि पुलिस ने उसे बचा लिया। समाधि लेने से पहले कथित बाबा ने एक परिचित के मोबाइल से विडियो बनवाकर सोशल मीडिया पर वायरल करा दिया ।

सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची और गड्ढे में बेहोश पड़े कथित बाबा को अस्पताल में भर्ती कराया। होश में आने के बाद कथित बाबा को गुरूवार को गिरफ्तार कर लिया गया।पुलिस के अनुसार भीलवाड़ा जिले में आसींद थाना क्षेत्र के कुराछो का खेड़ा गांव के रहने वाले 35 साल के कथित बाबा श्रवण उर्फ धीरज खारोल कई साल पहले घर-गृहस्थी छोड़कर संन्यास ले चुका है।

उसने कुछ दिन पहले ही समाधि लेने की इच्छा गांववालों के समक्ष जाहिर की थी। अंधविश्वास में डूबे गांववालों ने डिंगोड़िया माता मंदिर के पास पांच फीट गहरे और सवा फीट चौड़े ईंटों के पक्के गड्ढे का निर्माण कराया। इसके बाद श्रवण बुधवार को सुबह गड्ढे में उतरकर बैठ गया और ग्रामीणों ने ऊपर से पेड़ के पत्तों से बंद कर दिया। विडियो वायरल होने के बाद पुलिस को मामले की जानकारी मिली तो पुलिस थाना अधिकारी मनीष देव मौके पर पहुंचे और श्रवण को बाहर निकालकर अस्पताल में भर्ती कराया।

चार-दिन से खाना नहीं खा रहा था

ग्रामीणों ने पुलिस को बताया कि श्रवण चार दिन से खाना नहीं खा रहा था। उसने चार दिन पहले ही समाधि लेने की घोषणा कर दी थी। वह तीन बच्चों का पिता है। ग्रामीणों ने अनुसार श्रवण ने करीब दो साल पहले संन्यास लिया था और गांव में ही एक स्थान बनाकर पूजा करता था।  

Posted By: Preeti jha