जयपुर, जागरण संवाददाता। राजस्थान के टोंक कांग्रेस के नेता और पूर्व जिला प्रमुख रामबिलास चौधरी के साथ अभद्र व्यवहार करने के आरोप में तीन पुलिस अधिकारियों को निलंबित किया गया है। बुधवार शाम को टोंक के हाड़ीखुर्द गांव में रायल्टी कर्मचारियों और ग्रामीणों के बीच हुई मारपीट के बाद राज्यमार्ग संख्या 117 पर जाम लगाया गया था। जाम लगाने वाले ग्रामीणों की मांग थी कि मारपीट करने वाले रायल्टी कर्मचारियों को गिरफ्तार किया जाए। सूचना मिलने पर मौके पर पहुंचे पुलिसकर्मियों ने ग्रामीणों को पहले तो समझाया। लेकिन ग्रामीण जाम हटाने को तैयार नहीं हुए तो पुलिसकर्मियों ने हल्का बल प्रयोग किया था।

ग्रामीणों पर पुलिस द्वारा बल प्रयोग करने की सूचना पर चौधरी मौके पर पहुंचे। वे अधिकारियों से बातचीत कर रहे थे। इस बीच चौधरी और पुलिस उप अधीक्षक रुद्रप्रकाश शर्मा के बीच धक्का-मुक्की हो गई। शर्मा के साथ धक्का-मुक्की करने पर पुलिसकर्मियों ने चौधरी को जबरन पकड़ कर पुलिस की जीप में बिठा दिया और करीब तीन किलोमीटर दूर ले जाकर छोड़ दिया।

चौधरी के साथ धक्का-मुक्की किए जाने की जानकारी मिलने पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शर्मा, टोंक सदर पुलिस थाना अधिकारी आशाराम गुर्जर एवं पीपलू पुलिस थाना अधिकारी प्रहलाद सहाय को निलंबित करने के निर्देश दिए । सीएम के निर्देश पर पुलिस महानिदेशक ने तीनों को निलंबित करने के आदेश जारी कर दिए । इस मामले की जांच अजमेर के पुलिस महानिरीक्षक करेंगे । उल्लेखनीय है कि सीएम के निकट माने जाते हैं। 

Edited By: PRITI JHA

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट