जयपुर, जेएनएन। Guru Nanak Jayanti. सिख समुदाय के प्रथम गुरु गुरु नानक देव के 550वें प्रकाश पर्व के मौके पर मंगलवार को राजस्थान सरकार ने कई घोषणाएं की हैं। इस मौके पर सरकार पूरे एक वर्ष तक कई कार्यक्रम करेगी। इन कार्यक्रमों के लिए एक कोर कमेटी भी बनाई जाएगी।

राजस्थान में सिख समुदाय अच्छी खासी तादाद में हैं। राज्य के श्रीगंगानगर और हनुमानगढ़ जिले पंजाब से लगते हुए जिले हैं और इन जिलों में सिख समुदाय का बहुतायत में है। इसके अलावा अन्य जिलों में भी बड़ी संख्या में सिख रहते हैं। गुरु नानक देव के 550वें प्रकाश पर्व पर पूरे देश की तरह राजस्थान में भी सरकार ने कई कार्यक्रम और गतिविधियां करने की घोषणा की है। इसके तहत 12 से 15 नवंबर तक सिख समुदाय की बहुलता वाले अलवर, कोटा, भरतपरु, बूंदी, जयपुर, बीकानेर, गंगानगर, हनुमानगढ और जोधपुर से प्रमुख सिख धर्मस्थल सुल्तानपुर लोधी के लिए निशुल्क बसेें चलाई जाएगी। यह पंजाब के कपूरथला जिले में स्थित है।

सरकार पूरे वर्ष कार्यक्रम करेगी और ये कार्यक्रम तय करने के लिए सिख समुदाय के लोगों की कोर कमेटी गठित की जाएगी। पोकरण, पुष्कर और कोटा गुरुद्वारा श्री अगमगढ़ साहिब में विकास कार्य कराए जाएंगे। इसके साथ ही सरकार राजस्थान के सबसे बड़े राजस्थान विश्वविदयालय में गुरुनानक देव पर शोध व अनुसंधान के लिए गुरु नानक पीठ की स्थापना भी करेगी। वहीं, सरकार की ओर से सिख समुदाय की बहुलता वाले जिलों में गुरु नानक स्मृति वन बनाए जाएंगे। इनमें 550 पेड़ लगाए जाएंगे। राजस्थान सरकार ने जयपुर में एक सर्किल का नाम गुरु नानक देव के नाम पर किया है। राजस्थान में सिख समुदाय के लिए सरकार की ओर से पहली बार एक साथ इतनी घोषणाएं की गई हैं। 

राजस्थान में मंगलवार को प्रकाश पर्व श्रद्धा के साथ मनाया गया। प्रदेश में कई जगहों पर लंगर लगाए गए। जिसमें लोगों ने लंगर छका। 

राजस्थान की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Sachin Mishra

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप