उदयपुर, जेएनएन। भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो की टीम ने चित्तौडग़ढ़ के भदेसर पंचायत में सेवारत कनिष्ठ सहायक को दस हजार रुपये की रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया। आरोपी कनिष्ठ सहायक ने रिश्वत की राशि एक मजदूर की मौत के बाद उसके बेटे को मिली सहायता राशि को जारी करने के एवज में मांगी थी।

एसीबी से मिली जानकारी के अनुसार कनिष्ठ सहायक रूपशंकर पुत्र राजमल जाडाना से रिश्वत की राशि बरामद कर ली गई है। उसके खिलाफ भदेसर निवासी गोवर्धनलाल रेबारी ने शिकायत की थी। जिसमें उसने बताया कि उसके पिता लादूलाल रेबारी की साल 2017 में मौत हो गई थी। उनका श्रमिक कार्ड बना हुआ था। इस पर श्रम विभाग चित्तौडग़ढ़ ने परिवादी को दो लाख रुपये की सहायता राशि मंजूर की थी। दो लाख रुपये में से एक लाख रुपये उसे नकद मिल चुके थे, जबकि बाकी एक लाख रुपये की एफडी (फिक्स डिपोजिट) कराने के लिए पंचायत

समिति भदेसर पहुंचा था। जहां कनिष्ठ सहायक ने एक लाख रुपये जारी करने के एवज में उससे तीस हजार रुपये की रिश्वत मांग की थी।

हालांकि बाद में उसने बीस हजार रुपये रिश्वत देने पर काम करने का आश्वासन दिया। मंगलवार को परिवादी कनिष्ठ सहायक से मिलने जिला परिषद कार्यालय के सामने चाय की थड़ी पर पहुंचा और उसे दस हजार  रुपये दिए, तभी एसीबी टीम ने उसे रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया। आरोपी रूपशंकर को बुधवार को उदयपुर की विशिष्ट अदालत (भ्रष्टाचार निवारण अदालत) में पेश किया जाएगा। 

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Preeti jha