जागरण संवाददाता, जयपुर। राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर रक्तदान करने वाले कॉलेज स्टूडेट्स को बोनस अंक देने का निर्णय लिया है।

गौरतलब है कि इससे पहले पिछली वसुंधरा राजे सरकार ने साल 2015 में जनसंघ के संस्थापक पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती 25 सितंबर पर रक्तदान करने वाले स्टूडेंट्स को एक फीसद बोनस अंक देने का फैसला किया था। लेकिन अब गहलोत सरकार ने बुधवार को वसुंधरा राजे सरकार के इस निर्णय को पलटते हुए गांधी जयंती पर रक्तदान करने वाले स्टूडेंट्स को बोनस अंक देने का निर्णय किया है। इस बारे में राज्य सरकार के उच्च शिक्षा विभाग ने आदेश जारी किए हैं।

सरकार द्वारा बोनस अंक देने का प्रावधान किए जाने के बाद साल 2015 में पहली बार पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती पर 10 हजार 251 युवाओं ने रक्तदान कर रिकॉर्ड बनाया था। इसके बाद प्रतिवर्ष रक्तदान शिविर लगते रहे। इन शिविरों में करीब 10 हजार स्टूडेंट्स ने रक्तदान किया।

उच्च शिक्षा मंत्री भंवर सिंह भाटी ने बताया कि सरकार ने तय किया है कि अब प्रतिवर्ष दो अक्टूबर को रक्तदान करने वाले स्टूडेंट्स को बोनस अंक दिए जाएंगे। इसी के तहत बुधवार को प्रदेश के 100 सरकारी कॉलेज और यूनिवर्सिटीज में रक्तदान शिविर लगाए गए। इनमें रक्तदान करने वाले स्टूडेंट्स को एक फीसद बोनस अंक और प्रमाण-पत्र दिया गया। उन्होंने बताया कि सरकारी यूनिवर्सिटीज में गांधी अध्ययन केंद्र स्थापित करने को लेकर नीति बनाई जा रही है। युवाओं को गांधी के जीवन पर पीएचडी करने को लेकर प्रेरित किया जाएगा। गांधी के जीवन दर्शन को लेकर कॉलेजों में अलग से विभाग भी बनाने पर विचार किया जा रहा है। 

राजस्थान में गांधी जयंती पूरे प्रदेश में मनाई गई। इस मौके पर प्रदेश के नेताओं, कार्यकर्ताओं व बुद्धिजीवियों ने महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि अर्पित कर अपने विचार व्यक्त किए। इस दौरान कई लोग मौजूद थे।

राजस्थान की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Sachin Mishra

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप