जयपुर, जागरण संवाददाता। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सोमवार को चार घंटे तक जनसुनवाई की। जनसुनवाई के दौरान करीब छह हजार लोग अपनी समस्याएं लेकर मुख्यमंत्री के पास पहुंचे। जनसुनवाई के दौरान गहलोत ने लोगों अभाव-अभियोग सुने और अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे पूरी संवेदनशीलता के साथ जनसमस्याओं का निराकरण करें। पिछले दिनों ही मुख्यमंत्री ने प्रत्येक सोमवार को जनसुनवाई करने और बुधवार को मंत्रिमंडल की बैठक का निर्णय लिया है।

सोमवार को हुई जनसुनवाई के दौरान आम लोगों के साथ ही बेरोजगार युवक-युवतियां भी अपनी मांगों को लेकर मुख्यमंत्री निवास पर पहुंचे। प्रदेशभर से कांग्रेस कार्यकर्ता भी सीएम आवास पर पहुंचे। मुख्यमंत्री से इस दौरान बड़ी संख्या में जनप्रतिनिधि विभिन्न समाजों एवं संगठनों के प्रतिनिधिमंडल मिले और अपने-अपने क्षेत्र की समस्याओं से उन्हें अवगत कराया।

गहलोत से इंस्टिट्यूट ऑफ कम्पनी सेकेट्रीज ऑफ इंडिया (आईसीएसआई) की परीक्षा में ऑल इंडिया में पहली तीन रैंक हासिल करने वाली जयपुर की कीर्ति, हर्षा और रूपल ने मुलाकात कर अपनी उपलब्धि के बारे में बताया तो मुख्यमंत्री ने उन्हें बधाई देते हुए उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की। मुख्यमंत्री से भिश्ति समाज, राजस्थान नेत्रहीन कल्याण संघ एवं दृष्टिहीन शिक्षक संघ के प्रतिनिधि भी मिले।  

 ये भी पढ़ें- ऐसा क्‍या हुआ कि डेढ़ लाख में खरीदी गई दुल्हन शादी के तीन दिन बाद हीं फरार हुई

Posted By: Preeti jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप