जयपुर, जेएनएन। राजस्थान में उदयपुर के झाड़ोल में उपखंड अधिकारी पद पर कार्यरत प्रशिक्षु आइएएस अधिकारी डॉ. टी. शुभमंगला ऑनलाइन ठगी की शिकार हो गई। बदमाश ने केवाईसी का फर्जी लिंक मैसेज भेजकर उनके एसबीआई खाते से 6.10 लाख रुपये निकाल लिए। उनके मोबाइल नंबर पर केवाइसी अपडेट करने के लिए लिंक आया था। पुलिस मामले की जांच-पड़ताल कर रही है। अभी इस मामले में किसी की गिरफ्तारी नहीं हो पाई है।

जानकारी के मुताबिक, एसडीओ ने मैसेज बैंक से आया जानकर लिंक खोलकर उसमें मांगी गई गोपनीय जानकारी भर दी। कुछ देर में बदमाश ने काॅल कर एसडीओ से कहा कि आपकी केवाईसी हो गई और मोबाइल पर ओटीपी आएगी, उससे आप अपने खाते को उपयोग में ले सकते हैं। ओटीपी को उपयोग में लेते ही तीन लाख और दो बार में डेढ़-डेढ़ लाख रुपये कटने के तीन मैसेज आए। मैसेज देखकर उनके होश उड़ गए। 

धोखाधड़ी का पता लगने पर एसडीएम ने तुरंत ही एसबीआई के कस्टमर केयर पर सूचना दी, लेकिन पैसा वापस नहीं हो पाया। इसके बाद उन्होंने झाड़ोल थाने में संपर्क कर घटनाक्रम बताया, लेकिन यहां की पुलिस को इस बारे में प्रशिक्षण नहीं है, इसलिए उसने उदयपुर साइबर सेल यूनिट में रिपोर्ट देने को कहा। बाद में उन्होंने उदयपुर में साइबर सेल को शिकायत दर्ज करवाई।

साइबर सेल ने जानकारी लेने के बाद उनका खाता एसबीआई की बेंगलुरु शाखा में होने का हवाला देते हुए साइबर सेल बेंगलुरु से संपर्क करने तथा मामला वहीं दर्ज करवाने को कहा है। उनके पति बेंगलुरु में इनकम टैक्स विभाग में डिप्टी कमिश्नर हैं। ऐसे में उन्होंने साइबर सेल में जाकर मामला दर्ज करवाया। पुलिस मामले की जांच-पड़ताल कर रही है। मामले की गंभीरता से जांच की जा रही है। 

गौरतलब है कि पिछले कुछ समय से देश में साइबर अपराध की घटनाओं में बढ़ोतरी हुई है। 

राजस्थान की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Sachin Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस