जयपुर, [जागरण संवाददाता] । फिल्म सेंसर बोर्ड की अध्यक्ष रही,प्रसिद्घ फिल्म अभिनेत्री शर्मिला टेगौर का कहना है कि सेलेब्रिटी के बच्चों को बार-बार मौका कोई नहीं देता। एक बार मौका मिलने के बाद दूसरी बार बच्चों को खुद अपने को साबित करना होता है,वरना कोई काम नहीं देता।

जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल में अपनी बेटी सोहा अली खान की किताब " पेरिल्स आॅफ सेलेब्रिटी " पर आधारित एक सत्र में सोहा अली खान और संजोय रॉय के साथ चर्चा करते हुए शर्मिला टेगौर ने कहा कि हम लोग फिल्मी दुनिया से भले ही है,लेकिन हमेशा फिल्मी दुनिया में नहीं रहते। हमारे अपने परिवार और अपनी भी दुनिया है। घर पर हम कभी भी फिल्मों की बातें नहीं करते। उन्होंने कहा कि सोहा ने जब ग्रेजुएशन पूरा किया तो उसके पिता टाइगर पटौदी बहुत खुश हुए थे,क्योंकि क्रिकेट के कारण वे ग्रेजुएशन नहीं कर सके थे। स्वयं के द्वारा किताब लिखने के बारे में शर्मिला ने कहा, कई बार सोचा कि लिखूं फिर लगा कौन पढ़ेगा मेरी किताब। अब तो हालांकि समय ही नहीं है । सोहा अली खान ने कहा कि मेरी किताब में मैने वही सब कुछ लिखा है जो अपने परिवार में मैने अनुभव किया  है । वे बोली,मेरी मां मेरी सबसे अच्छी दोस्त है । उन्होंने मुझे हर चीज सिखाई और इसी से मै  जीवन में आगे बढ़ी हूं । 

Posted By: Preeti jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस