अजमेर, (जेएनएन)। राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की वर्ष 2019 की मुख्य परीक्षायें मंगलवार को निर्विध्न संपन्न हो गई। बोर्ड मई के पहले सप्ताह में ही बारहवीं विज्ञान और वाणिज्य के परीक्षा परिणाम जारी करने के लक्ष्य पर कॉपियों का मूल्यांकन करवा रहा है।

बोर्ड की सचिव श्रीमती मेघना चौधरी ने बताया कि अब बोर्ड की प्राथमिकता शीघ्र परीक्षा परिणामों की घोषणा है। बोर्ड ने उत्तर पुस्तिकाओं के मूल्यांकन के लिए 26 हजार 500 से भी अधिक परीक्षकों की नियुक्ति की है। प्रदेश के 16 जिलों में केंद्रीय मूल्यांकन की व्यवस्था की गई है।

इस बार बैठे थे 20 लाख 14 हजार परीक्षार्थी:

बोर्ड की दसवीं और बारहवीं की इन परीक्षाओं के लिए प्रदेश के 33 जिलों के 5,586 परीक्षा केंद्र पर 20 लाख 14 हजार 886 परीक्षार्थी परीक्षा के लिए पंजीकृत किये गये थे जो गत वर्ष की तुलना में 95 हजार 87 अधिक है।

इस बार नकल के मात्र 27 मामले:

जानकारी के अनुसार इस वर्ष उडनदस्तों द्वारा किये गये सघन निरीक्षण, सीसीटीवी कैमरों और परीक्षा केन्द्रों पर पर्याप्त पुलिस बल के कारण नकल व अनुचित साधनों के प्रकरणों पर लगाम लग गई। नकल के इस वर्ष अत्यन्त न्यून प्रकरण दर्ज हुए है। मोटे तौर पर मिली सूचना के अनुसार मात्र 24 से 27 मामले दर्ज हुए हैं।

सत्रांक के लिए नोटिस तैयार:

बोर्ड सचिव के अनुसार बोर्ड उन सभी विद्यालयों को नोटिस जारी करेगा जिन्होंने अपने विद्यालय के नियमित परीक्षार्थियों के सत्रांक अब तक बोर्ड की वेबसाइट पर आॅनलाईन दर्ज नहीं किये है। परीक्षकों से परीक्षार्थियों के प्राप्तांक मंगवाने के कार्य पर माॅनिटरिंग के लिए बोर्ड ने संभागवार प्रभारी अधिकारी भी नियुक्त किये है। 

Posted By: Preeti jha