जागरण संवाददाता, जयपुर। राजस्थान में ओमिक्रान के साथ ही कोरोना पीड़ितों की संख्या लगातार बढ़ रही है।  इस बीच, प्रदेश में बुधवार को ओमिक्रोन के 23 नए पीड़ित मिले हैं। अब तक 69 लोग ओमिक्रोन से पीड़ित मिल चुके हैं। इधर, राज्य सरकार ने बुधवार रात नई गाइडलाइन जारी की है। राज्य में अब रात 11 से सुबह पांच बजे तक रात्रि कर्फ्यू लागू रहेगा। शादी, धार्मिक व राजनीतिक समारोह में 200 लोग ही शामिल हो सकेंगे। इनके आयोजन के लिए जिला कलेक्टरों की अनुमति लेना अनिवार्य होगा, ऐसा नहीं करने पर जुर्माना लगाया जा सकेगा। सिनेमा हाल, मल्टीप्लेक्स, आडिटोरियम और शापिंग माल्स में वैक्सीन की दोनों डोज लगवाने वालों को ही प्रवेश दिया जाएगा। इनमें कुल क्षमता के आधे लोगों को प्रवेश मिलेगा। इन सभी संस्थानों को रात 10 बजे तक खोलने की अनुमति होगी।

गहलोत सरकार ने जारी की नई गाइडलाइन

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की अध्यक्षता में हुई मंत्रिपरिषद की बैठक में विशेषज्ञ भी शामिल हुए। इस बैठक में विचार-विमर्श के बाद जारी गाइडलाइन के अनुसार, सरकारी और गैर सरकारी संस्थानों के कर्मचारियों को 31 जनवरी, 2022 तक वैक्सीन लगवाना अनिवार्य होगा। रेस्टोरेंट रात 10 बजे तक ही खोले जा सकेंगे। हालांकि 31 दिसंबर को नए साल के मौके पर रात 12:30 बजे तक होटल और रेस्टोरेंट खोले जा सकेंगे। गहलोत ने कहा कि नए साल को देखते हुए होटलों में बड़ी संख्या में बाहर से लोग आए हैं, इसलिए इन्हें 31 दिसंबर तक अनुमति दी गई है। इस बीच, प्रदेश में बुधवार को ओमिक्रोन के 23 नए पीड़ित मिले हैं। अब तक 69 लोग ओमिक्रोन से पीड़ित मिल चुके हैं। ओमिक्रोन पीड़ितों के मामले में राजस्थान देश में चौथे नंबर पर है। दिल्ली में सबसे ज्यादा 238, महाराष्ट्र में 167, गुजरात में 73 ओमिक्रोन पीड़ित हैं। वहीं, राजस्थान में पिछले 24 घंटे में 131 कोरोना संक्रमित मिले हैं। इनमें सबसे ज्यादा 88 संक्रमित जयपुर जिले में मिले हैं। एक्टिव केसों की संख्या 537 तक पहुंच गई है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बुधवार शाम मंत्रियों और विशेषज्ञों के साथ बैठक की। उन्होंने कहा कि सरकार अब सख्ती बरतेगी।

टीका लगवाने वाले को सरसों के तेल का लालच

राज्य के जोधपुर जिले की शेरगढ़ तहसील वैक्सीनेशन के मामले में पिछड़ गई। इस पर चिकित्सा विभाग ने एक स्वयंसेवी संगठन के सहयोग से लोगों में घोषणा कराई कि वैक्सीन लगवाने वालों को एक लीटर सरसों को तेल मुफ्त में दिया जाएगा। ब्लाक चिकित्सा अधिकारी डा. धीरज बिस्सा ने बताया कि इस घोषणा के बाद अब तक 7000 लीटर तेल वितरित किया जा चुका है। लोग टीका लगवाने के लिए आने लगे हैं।

टीम को देखकर रोने लगी महिलाएं

कोरोना की तीसरी लहर सिर पर है, लेकिन वैक्सीन लगवाने को लेकर अभी भी कुछ लोग डर रहे हैं। ग्रामीणों इलाकों में वैक्सनेशन टीम को देखते ही लोग घर छोड़कर भाग जाते हैं या फिर मारपीट करने लगते हैं। ऐसा ही मामला सिरोही जिले के सांचौर में देखने को मिला। यहां मंगलवार को वैक्सीन लगाने गई टीम को देखते ही महिलाएं घर छोड़कर भाग गई। कुछ महिलाओं ने टीम को धमकाया। करीब एक घंटे की मशक्कत के बाद महिलाएं वैक्सीन लगवाने को तैयार हुई। डा. मनोज कुमार बिश्नोई ने बताया कि कुछ महिलाएं तो वैक्सीन लगाने के दौरान रोने लग गई।

समाचार एजेंसी एएनआइ के मुताबिक, राजस्थान के अजमेर में ओमिक्रों के 10, जयपुर में नौ, भीलवाड़ा में नौ और अजमेर और अलवर में एक-एक मामले दर्ज किए गए। इनमें से चार मामले सामने आए हैं। एक का विदेश यात्रा इतिहास, तीन का विदेश यात्रा से लौटने वालों के साथ संपर्क इतिहास है, दो ने दूसरे राज्यों की यात्रा की, जबकि शेष दो ने उनसे संपर्क किया था। एक ओमिक्रोन मामले के संपर्क में रहा है, जबकि 11 अन्य का ऐसा कोई संपर्क इतिहास नहीं है। सभी मरीजों को आइसोलेट कर दिया गया है और ओमिक्रोन के वार्डों में उनका इलाज चल रहा है। कुल मिलाकर जयपुर में 39 ओमिक्रोन के सबसे अधिक मामले हैं, सीकर में चार, अजमेर में 17, उदयपुर में चार, भीलवाड़ा में दो, जोधपुर और अलवर में एक-एक मामला है। पहले 46 मामलों में से 44 पूरी तरह से ठीक हो चुके हैं, स्वास्थ्य अधिकारियों ने पुष्टि की है। जयपुर के सीएमएचओ डा. नरोत्तम शर्मा के मुताबिक, वर्तमान समय में कोरोना के 420 मामले आए हैं और ओमिक्रोन के 36 मामले सामने आए हैं। जयपुर में 30 मामले पाए गए हैं। लोगों को हिदायत है कि वे लापरवाही न बरतें और 31 दिसंबर को घर पर ही रहें। 

Koo App

#Rajasthan on Wednesday registered 23 new #Omicron cases pushing the state tally to 68, health officials confirmed. Of these, Ajmer recorded 10, Jaipur 9, Bhilwara 2, and Ajmer and Alwar logged one each.

View attached media content

- IANS (@IANS) 29 Dec 2021

Edited By: Sachin Kumar Mishra