जयपुर, जेएनएन Rajasthan के टोंक जिले के मालपुरा इलाके में शारदीय नवरात्र में दशहरा के दिन हुए विवाद के बाद मालपुरा में कर्फ्यू लगा दिया गया है। दशहरा के जुलूस पर हमले के बाद इंटरनेट सेवा भी बंद कर दी गई है नवरात्र में दशहरा के दिन राजस्थान के टोंक जिले के मालपुरा गांव में प्रशासन ने आज [बुधवार] सुबह छह बजे से कर्फ्यू लगा दिया है

राजस्थान में टोंक जिले के मालपुरा कस्बे में मंगलवार देर रात भड़के साम्प्रदायिक तनाव के बाद बुधवार सुबह 6 बजे कर्फ्यू लगा दिया गया। साम्प्रदायिक तनाव के चलते मंगलवार रात 9 बजे होने वाला रावण दहन भी बुधवार सुबह साढ़े चार बजे नगरपालिका कर्मचारियों द्वारा किया गया।

एक समुदाय विशेष द्वारा रावण दहन के विरोध की आशंका को देखते हुए दशहरा मैदान पर बडी संख्या में पुलिस बल तैनात कर दिया गया। जिला कलेक्टर के.के.शर्मा और पुलिस अधीक्षक आदर्श सिद्धृ की मौजूदगी में रावण दहन का कार्यक्रम संपन्न हुआ। मालपुरा कस्बे और आसपास के क्षेत्रों में इंटरनेट सेवा 48 घंटे के लिए बंद कर दी गई है। बुधवार सुबह जयपुर से अतिरिक्त पुलिस बल मालपुरा भेजा गया।

यह है पूरा मामला

मंगलवार को दशहरे के दिन रात 9 बजे मालपुरा कस्बे में रावण दहन का कार्यक्रम होना था। इससे पहले शहर में विजयदशमी का जुलूस निकाला गया। 9 दिन तक कस्बे में चली रामलीला के बाद निकाले गए जुलूस में राम और लक्ष्मण बने युवकों को जुलूस के रूप में दशहरा मैदान तक ले जाया जा रहा था। इसी दौरान सादात मोहल्ले जुलूस पर एक समाज विशेष के उपद्रवियों ने पथराव कर दिया। इससे जुलूस में भगदड़ मच गई। जुलूस में शामिल लोगों ने भी दूसरे समुदाय के लोगों पर पथराव किया। दोनों तरफ से हुए पथराव के कारण आधा दर्जन लोग घायल हो गए। कस्बे में कई तरह की अफवाह फैल गई, जिससे अधिक माहौल खराब हो गया। तनाव के बीच विधायक कन्हैयालाल चौधरी और शत्रुघन गौतम के नेतृत्व मे लोग जुलूस करने वालों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर धरने पर बैठ गए।

पुलिस ने पहले तो उन्हे समझाने का प्रयास किया,लेकिन नहीं मानने पर देर रात करीब तीन बजे हल्का बल प्रयोग कर लोगों को खदेड़ा गया। रात साढ़े तीन बजे अजमेर रेंज के पुलिस महानिरीक्षक संजीव नर्जरी ने मौके पर पहुंचकर हालात का जायजा लिया। इसके बाद प्रशासन ने सुबह 6 बजे मालपुरा कस्बे में आगामी आदेश तक कर्फ्यू लगा दिया। इंटरनेट सेवा आगामी 48 घंटे के लिए बंद कर दी गई। पुलिस ने इस मामले में एक दर्जन लोगों को चिन्हित किया है।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बुधवार दोपहर अतिरिक्त मुख्य सचिव गृह राजीव स्वरूप एवं पुलिस महानिदेशक भूपेंद्र यादव से पूरे प्रकरण की जानकारी लेकर हालात को नियंत्रित करने के निर्देश दिए है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस