जागरण संवाददाता, जयपुर। Rajasthan minister Dr BD Kalla. राजस्थान में टोंक जिले के खेड़ली में छह साल की दुष्कर्म पीड़ित बच्ची के परिजनों को राज्य सरकार की तरफ से पांच लाख रुपये की आर्थिक सहायता दी गई है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के निर्देश पर महिला एवं बाल विकास मंत्री ममता भूपेश पीड़ित बालिका के घर जाकर परिजनों से मिली।

उधर, राज्य के ऊर्जा एवं जल संसाधन मंत्री डॉ. बीडी कल्ला ने सोमवार को मीडिया से बात करते हुए कहा कि मोबाइल और इंटरनेट पर गलत सामग्री देखकर बच्चे बिगड़ रहे हैं। उन्होंने लोगों से बच्चों को मोबाइल और इंटरनेट से दूर रखने की अपील की है। उन्होंने कहा कि बच्चों के बिगड़ने का कारण संस्कारों की कमी भी है। कल्ला ने केंद्र सरकार से इंटरनेट पर गलत सामग्री पर रोक लगाने की मांग की है।

ट्रक ड्राइवर हिरासत में 

बच्ची से दुष्कर्म कर हत्या करने के मामले में पुलिस ने एक ट्रक ड्राइवर को हिरासत में लिया है। बताया जा रहा है कि ड्राइवर महेंद्र मीणा बच्ची के गांव में ही रहता है। स्निफर डॉग की मदद से पुलिस आरोपित तक पहुंची। पुलिस सूत्रों के मुताबिक, ड्राइवर ने नशे की हालत में बच्ची को टॉफी खिलाई। फिर अपने साथ ले गया। कई घंटे उसे ट्रक में घुमाता रहा। इसके बाद दुष्कर्म किया और फिर गला दबाकर बेरहमी से बच्ची की हत्या कर दी। इसके बाद शव को गांव में ही झाड़ियों में फेंक कर घर चला गया। पुलिस के खोजी कुत्ते को घटनास्थल पर ले जाया गया था।

उसी के मदद से पुलिस आरोपित के घर के पास पहुंच गई। वहां पुलिस ने आसपास के लोगों से पूछताछ की। इस दौरान पुलिस को पता चला कि एक ट्रक ड्राइवर का घर है। वह देर रात घर पहुंचा था। पुलिस ने जब घर जाकर जांच की तो ड्राइवर बुरी तरह से नशे में था। इसके बाद पुलिस ट्रक ड्राइवर को पकड़कर थाने ले आई और उससे पूछताछ की गई। बताया जा रहा है कि आरोपी ने अपना गुनाह कबूल कर लिया है। पुलिस को जहां बच्ची का शव मिला उससे कुछ दूरी पर शराब, बीयर की टूटी बोतलें मिली थी। वहीं पास में ही टॉफी की पन्नियां, जर्दे, गुटखे के पाउच मिले थे। यह घटना शनिवार को हुई और रविवार को उसका शव झाड़ियों में पड़ा मिला था। 

यह भी पढ़ेंः टोंक में बच्ची से दरिंदगी के मामले में ट्रक ड्राइवर हिरासत में

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021