जागरण संवाददाता, जयपुर! अपने बयानों को लेकर हमेशा चर्चा में रहने वाले कांग्रेस के विधायक भरत सिंह ने एक बार फिर विवादास्पद बयान दिया है । भरत सिंह ने प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी को पत्र लिखकर 500 और 2000 के नोट पर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की फोटो नहीं छापी जाए । इन नोटों का ही उपयोग रिश्वत के लेनदेन में होता है। यह बात उन्होंने कोटा में मीडिया के समक्ष भी कही । उन्होंने सुझाव दिया कि भारतीय रिजर्व बैंक अब 500 और 2000 के नोट से गांधी जी की तस्वीर हटाकर केवल चश्मे का या फिर अशोक चक्र का इस्तेमाल किया जाए ।

भरत सिंह ने पत्र में लिखा कि आजादी के बाद 75 साल में देश और समाज में व्यापक भ्रष्टाचार फैल गया है। राजस्थान में भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो अपना काम कर रहा है। राजस्थान में जनवरी,2019 से लेकर 31 दिसंबर,2020 तक 616 लोगों को रिश्वत लेते हुए पकड़ा गया । इसका मतलब यह है कि औसतन प्रतिदिन दो प्रकरण रिश्वत के पकड़े गए हैं । रिश्वत की राशि का 500 और 2000 के नोट के रूप में लेनदेन होता है। इप पर गांधी जी का फोटो होता है । रिश्वत में इनके लेनदेन से गांधी जी का सम्मान नहीं,बल्कि अपमान होता है।

उन्होंने कहा कि गांधी जी की तश्वरी सिर्फ 5,10,20,50,100 और 200 के नोटों पर छापी जाए । यह नोट गरीबों के काम आते हैं । रिश्वत के लेनदेन में इनका उपयोग नहीं होता है। उल्लेखनीय है कि भरत सिंह कई बार राज्य सरकार में खानमंत्री प्रमोद जैन भाया के खिलाफ मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को पत्र लिख चुके हैं । इन पत्रों में खानमंत्री को भूमाफिया और अवैध खनन को बढ़ावा देने वाला बताया गया है । वह कई सीएम से खानमंत्री को मंत्रिमंडल से हटाने की मांग भी कर चुके हैं ।

Edited By: Vijay Kumar