जोधपुर, जेएनएन। Maharashtra Deadlock. महाराष्ट्र के राजनीतिक गतिरोध के लिए भाजपा खुद जिम्मेदार है। सहयोगी दलों के साथ भाजपा के किए गए झूठे वादों से आज वहां हालात बने हैं कि नतीजे आने के 14 दिन बाद भी सरकार बनाने को लेकर संशय है, क्योंकि भाजपा का लोकतंत्र में विश्वास नहीं है। ये कहना है सूबे के मुखिया अशोक गहलोत का।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपने जोधपुर के दो दिवसीय दौरे के दौरान केंद्र सरकार और भाजपा पर जोरदार निशाना साधा। महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फड़णवीस ने शुक्रवार को इस्तीफा दे दिया है। इस दौरान फड़णवीस ने एक ओर तो अपनी सरकार की उपलब्धियां गिनाई, दूसरी ओर शिवसेना पर जमकर निशाना भी साधा। 

गहलोत ने भाजपा पर आरोप लगाते हुए कहा कि ये पार्टी पहले भी मणिपुर, गोवा, कर्नाटक सहित कई राज्यों में जनमत को दरकिनार कर सरकार बना चुकी है। महाराष्ट्र व हरियाणा की जनता ने भाजपा को पूर्ण बहुमत नहीं देकर जोरदार सबक सिखाया है। आम जनता भाजपा की नीतियों को समझ चकी है और जल्द ही अन्य राज्यों में भी इनकी हकीकत सभी के सामने जाएगी। सीएम गहलोत केंद्र सरकार पर कई तरह आरोप लगाते हुए नोटबंदी व जीएसटी पर केंद्र सरकार को घेरा।

जनसुनवाई में उमड़ी भीड़

जोधपुर प्रवास के दौरान गहलोत ने जनसुनवाई की। यहां सर्किट हाउस में उनसे मिलने बड़ी संख्या में लोग पहुंचे। गहलोत ने लोगों से उनकी समस्याएं सुनी। गहलोत ने बारी-बारी से वहां मौजूद सभी लोगों से मुलाकात की और प्रत्येक व्यक्ति समस्या को सुन वहां मौजूद अधिकारियों को समाधान के निर्देश दिए। लोगों ने बड़ी संख्या में मुख्यमंत्री को ज्ञापन सौंपे।

गौरतलब है कि महाराष्ट्र विधानसभा का कार्यकाल शुक्रवार को खत्म होने से ऐन पहले राज्यपाल बीएस कोशियारी ने कानूनी पहलुओं और संवैधानिक मुद्दों पर विचार-विमर्श के लिए महाधिवक्ता आशुतोष कुंभकोणी से राजभवन में चर्चा की है। इस बीच, भाजपा और शिवसेना के बीच की खाई और चौड़ी हो चुकी है।

राजस्थान की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

Posted By: Sachin Mishra

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप