जयपुर, नरेन्द्र शर्मा। बिहार में पटना के एक शातिर ठग ने खुद को भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस)में वरिष्ठ अधिकारी और वर्तमान में रेल सचिव पद पर तैनात बताकर राजस्थान में बूंदी के विधायक अशोक डोगरा एवं उनके परिचित अशोक चौधरी से 20 लाख 60 हजार ठग लिए। इस मामले में अशोक चौधरी की शिकायत पर राजस्थान पुलिस ने बिहार पुलिस से संपर्क साधा है।

दरअसल, खुद को आईएएस अधिकारी बताकर अमिताभ उर्फ अभिषेक सिंहा ने भाजपा विधायक अशोक डोगरा को बूंदी से श्रीनगर रेलवे स्टेशन तक मिट्टी डलवाने के लिए किसी ठेकेदार को बताने के लिए कहा। इस पर डोगरा ने अपने विश्वस्त अशोक चौधरी का नाम अभिषेक सिंहा को बताया। अशोक चौधरी बूंदी नगर परिषद के ठेकेदार होने के साथ ही डोगरा का विश्वस्त सहयोगी है। डोगरा के परिजनों के साथ उसका व्यापार भी है।

ठग अभिषेक सिंहा और अशोक चौधरी के बीच इस साल 3 और 5 अप्रैल दो बार मोबाइल पर बात हुई। इस पर विधायक और चौधरी दोनों को ठग अभिषेक सिंहा पर विश्वास हो गया। ठग ने चौधरी को मोबाइल पर फोन करके वर्क ऑर्डर दिलाने के नाम पर 20 लाख 60 हजार अपने बैंक खाते में जमा कराने के लिए कहा। इस पर चौधरी ने 6 अप्रैल को विधायक से अभिषेक सिंहा की पहले मोबाइल पर बात कराई और फिर 20 लाख 60 हजार  उसके खाते में जमा करा दिए। दो दिन बाद चौधरी ने अभिषेक सिंहा को फोन किया तो उसने अप्रैल के तीसरे सप्ताह में बूंदी आकर वर्क ऑर्डर देने की बात कही। अप्रैल और मई माह तक लगातार चौधरी ने अभिषेक सिंहा से मोबाइल पर बात की,लेकिन वह रेलवे के कामकाज में व्यस्तता का बहाना बनाकर टालता रहा।

विधायक ने भी उसे फोन किया तो उन्हे भी टाल दिया। इस पर उन्हे शक हुआ तो चौधरी अभिषेक सिंह को तलाशने बिहार के पटना पहुंचे। विधायक ने अपने संपर्कों के माध्यम से बिहार के राजनेताओं से बात की। काफी मशक्कत के बाद अभिषेक सिंहा चौधरी को पटना में अपने एक वकील मित्र के साथ मिला। उसने चौधरी को फिर टाल दिया और लोकसभा चुनाव एवं केंद्रीय बजट में व्यस्तता का हवाला देकर शीघ्र बूंदी पहुंचकर वर्क ऑर्डर दिलाने की बात कही। लेकिन फिर भी वह बूंदी नहीं पहुंचा तो चौधरी ने बूंदी कोतवाली पुलिस थाने में अभिषेक चौधरी के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज कराया ।

राजस्थान पुलिस ने बिहार पुलिस से संपर्क साधा

बूंदी कोतवाली पुलिस थाना अधिकारी घनश्याम मीणा ने बताया कि पीड़ित पक्ष से बिहार के अभिषेक सिंहा नाम के व्यक्ति ने मोबाइल पर रेलवे का टेंडर दिलाने के नाम पर 20 लाख 60 हजार ठगे है। इस मामले में अनुसंधान जारी है। पुलिस में जैसे ही मामला दर्ज हुआ,हमने आरोपित के बैंक खाते के बारे में संबंधित बैंक के अधिकारियों से बात की। उसके खाते से 11 लाख 13 हजार का ट्रांजेक्शन रूकवा दिया। बूंदी पुलिस की टीम पटना दो बार जाकर आई, लेकिन वह फरार मिला। अब बिहार पुलिस से संपर्क साधा जा रहा है।

जानकारी के अनुसार अभिषेक सिंहा ने विधायक से हुई मोबाइल पर बातचीत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम की चर्चा भी की। उसने बताया कि वह तो पीएम के सपने को साकार करने के लिए रेलवे को मजबूत कर रहा है। 

Posted By: Preeti jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप