जयपुर, जागरण संवाददाता। जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में शहीद हुए जवानों को राजस्थान के विभिन्न शहरों और गांवों में श्रद्धांजलि दी गई। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सहित विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं ने शहीदों को क्षृद्धांजली दी।

जयपुर स्थित शासन सचिवालय में परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास की मौजूदगी में अधिकारियों एवं कर्मचारियों ने राष्ट्रपति महात्मा गांधी की प्रतिमा के समक्ष दो मिनट का शोक रखकर शहीदों को क्षृद्धांजली दी।

पुलिस महानिदेशक कपिल गर्ग के नेतृत्व में राजस्थान पुलिस के अधिकारियों एवं पुलिस कर्मियों ने 2 मिनट का मौन रख कर शहीद हुए जवानों के प्रति श्रद्धांजलि व्यक्त की। ट्रैफिक कंट्रोल रूम में भी मौन रखा गया।प्रदेश के अलग-अलग हिस्सों में कई जगह मार्च निकाला गया। इसके साथ बाजार भी बंद रखा गया।

आतंकी हमले में मारे गए 42 जवानों में पांच राजस्थान के है। इनमें कोटा का हेमराज,धौलपुर का भागीरथ,जयपुर का रोहिताश,भरतपुर का जीतनराम और राजसमंद का नारायण लाल शामिल है।

कई जगह बाजार बंद रहे

जयपुर में भी शुक्रवार सुबह कई जगह बाजार बंद रहे। वहीं राजस्थान युनिवर्सिटी के छात्रों ने शहीदों को श्रद्धांजलि दी। इस दौरान बड़ी संख्या में छात्र छात्राएं कार्यक्रम स्थल पर एकत्रित हुए। अजमेर में विश्व हिंदू परिक्षद और बजरंग दल ने आतंकी हमले पर काली पट्टी बांधकर रोष जताया गया। इस दौरान बड़ी संख्या में लोग जिला कलेक्ट्रेट पर विरोध प्रदर्शन करने पहुंचे।

पाकिस्तान पर कार्रवाई की मांग को लेकर राज्यपाल के नाम सौंपा ज्ञापन। ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती की दरगाह में शहीदों कों याद किया और उनके परिजनों को सब्र मिलने की दुआ की गई। भीलवाड़ा, अलवर, दौसा, टोंक, उदयपुर सहित कई शहरों में बाजार बंद रखे गए। लोगों ने विशेषकर युवाओं ने एकत्रित होकर शहीदों को क्षृद्धांजली दी । कई स्थानों पर पाकिस्तान विरोधी नारे भी लगाए गए ।

2 माह पहले ही शहीद रोहिताश बना था बेटे का पिता

आतंकी हमले में शहीद हुए जयपुर जिले के गोविंदपुरा बासड़ी गांव का जवान रोहिताश दो माह पहले ही एक बेटे का पिता बना था। डेढ़ साल पहले ही उसका विवाह हुआ था। बेटे को देखने रोहिताश पिछले माह घर आया था और परिजनों से जल्द ही वापस आने की कह कर गया था रोहिताश के शहीद होने की सूचना मिलते ही उसकी पत्नी सरस्वती और भाई जितेन्द्र की तबीयत बिगड़ गई।


भागीरथ ने पिता से कहा था,जल्दी आऊंगा

धौलपुर जिले में राजाखेड़ा निवासी शहीद जवान भागीरथ दो दिन पहले ही अवकाश खत्म होने पर ड्यृटी पर गया था । उसके शहीद होने की सूचना मिलते ही पूरे गांव में सन्नाटा छा गया । गांव के सभी लोग रातभर शहीद के घर बैठकर परिजनों को सांत्वना देते रहे ।

Posted By: Preeti jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप